ताज़ा खबर
 

विदेश में आठ हजार से ज्यादा भारतीय कैदी, सऊदी अरब और नेपाल सबसे अधिक बंदी

मुरलीधरन के मुताबिक, ऐसे भारतीय को विभिन्न देशों के कानूनों के अनुसार भारतीय राजनयिक मिशनों से सहायता उपलब्ध कराई जा रही है। कई देशों में ऐसे कानून हैं कि स्थानीय अधिकारी कैदी के बारे में समुचित सूचनाएं उपलब्ध नहीं कराते। कई देशों में कड़े निजता कानूनों के कारण स्थानीय अधिकारी कैदियों के बारे में बाकी पेज 8 पर जानकारी तब तक साझा नहीं करते, जब तक संबंधित व्यक्ति इस तरह की जानकारी के खुलासे की सहमति नहीं देता।

Author नई दिल्ली | July 19, 2019 12:24 AM
प्रतीकात्मक फोटो (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

दुनिया के विभिन्न देशों की जेलों में आठ हजार से ज्यादा भारतीय कैद हैं। इनमें अधिकांश विचाराधीन कैदी हैं। विदेश मंत्रालय ने विभिन्न दूतावासों और उच्चायोगों के जरिए ऐसे भारतीयों के बारे में जानकारी जुटाई है। इन लोगों को समुचित कानूनी मदद मुहैया कराई जा रही है। विदेश मंत्रालय ने ऐसे भारतीयों को लेकर विस्तृत रिपोर्ट तैयार की है। इसके मुताबिक, सऊदी अरब की जेलों में सबसे अधिक 1811 भारतीय कैद हैं। इसके बाद नंबर संयुक्त अरब अमीरात और नेपाल का है। संयुक्त अरब अमीरात में 1392 और नेपाल में 1160 भारतीय जेलों में कैद हैं। विदेश राज्यमंत्री वी मुरलीधरन के मुताबिक, हमारे पास 31 मई तक के आंकड़े उपलब्ध हैं, उसके मुताबिक दुनिया भर में ऐसे भारतीयों की संख्या कुल 8,189 है।

मुरलीधरन के मुताबिक, ऐसे भारतीय को विभिन्न देशों के कानूनों के अनुसार भारतीय राजनयिक मिशनों से सहायता उपलब्ध कराई जा रही है। कई देशों में ऐसे कानून हैं कि स्थानीय अधिकारी कैदी के बारे में समुचित सूचनाएं उपलब्ध नहीं कराते। कई देशों में कड़े निजता कानूनों के कारण स्थानीय अधिकारी कैदियों के बारे में बाकी पेज 8 पर जानकारी तब तक साझा नहीं करते, जब तक संबंधित व्यक्ति इस तरह की जानकारी के खुलासे की सहमति नहीं देता। यहां तक की जानकारी साझा करने वाले देश भी आम तौर पर बंदी बनाए गए विदेशियों के बारे में विस्तृत जानकारी नहीं देते। ऐसे में जब तक उस व्यक्ति का भारत में रह रहा कोई परिजन जानकारी नहीं देता, या कहीं और से सूचना नहीं मिलती- तब तक विदेश मंत्रालय के हाथ बंधे होते हैं। कई देश आंकड़े तो उपलब्ध कराते हैं, लेकिन कैदियों का विस्तृत ब्योरा नहीं देते।

जिन कैदियों को सजा सुनाई जा चुकी है, भारतीय दूतावासों के जरिए उनकी सजा काम कराने या उन्हें माफी दिलाने की कोशिशें भी की जा रही हैं। 2016 से अब तक खाड़ी देशों में 3087 भारतीयों को माफी या सजा से छूट दिलाई जा चुकी है। विदेश राज्य मंत्री के अनुसार, पाकिस्तान की जेलों में 273 भारतीय कैदियों के बंद होने की जानकारी जुटाई गई है। 2014 से अब तक पाकिस्तान की कैद से 2110 भारतीयों को रिहा कराने में सफलता हासिल हुई है। हालांकि 273 कैदी अब भी पाकिस्तान की गिरफ्त में हैं। इनमें 209 मछुआरे हैं। मंत्री के मुताबिक, विदेशों में नागरिकों की हिफाजत और उनकी बेहतरी के लिए सरकार हमेशा तत्पर रहती है। सभी भारतीय नागरिक कैदियों और मछुआरों की नौकाओं सहित जल्द रिहाई और देश वापसी के मामले को पाकिस्तान सरकार के साथ निरंतर उठाती रहती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App