scorecardresearch

ओरलैंडो गोलीबारी के बाद खौफ के साये में अमेरिकी सिख, सता रहा है हिंसा का डर

हालांकि ओबामा प्रशासन ने उनकी सुरक्षा का भरोसा दिलाया है।

orlando florida shooting, Orlando Gay Club, US Sikh Community, White House, United States
व्हाइट हाउस ने रविवार (12 जून) को सिखों से मुलाकात करने और उनकी सुरक्षा का भरोसा दिलाने के लिए अपनी एक वरिष्ठ अधिकारी को वाशिंगटन डीसी के उपनगरीय इलाके में स्थित एक गुरुद्वारे भेजा।(रॉयटर्स फोटो)

अमेरिका में हर बड़े आतंकी हमले के बाद घृणा अपराधों का सामना करने वाले सिखों को अब ओरलैंडो के गे क्लब में गोलीबारी की घटना के बाद प्रतिक्रिया में हिंसा होने का डर सता रहा है, हालांकि ओबामा प्रशासन ने उनकी सुरक्षा का भरोसा दिलाया है। सिख समुदाय के बीच बढ़ती चिंता को खत्म करने का प्रयास करते हुए व्हाइट हाउस ने रविवार (12 जून) को सिखों से मुलाकात करने और उनकी सुरक्षा का भरोसा दिलाने के लिए अपनी एक वरिष्ठ अधिकारी को वाशिंगटन डीसी के उपनगरीय इलाके में स्थित एक गुरुद्वारे भेजा।

मैरीलैंड में सबसे पुराने गुरुद्वारे ‘गुरू नानक फाउंडेशन ऑफ अमेरिका’ में सिख समुदाय के लोगों से बातचीत करने के बाद व्हाइट हाउस में घरेलू नीति परिषद की निदेशक सेसिलिया मुनोज ने कहा, ‘हम जानते हैं कि इस समय समुदाय के भीतर डर है।’ वह सिख समुदाय के लोगों के साथ ‘संगत’ में भी शामिल हुईं। उन्होंने कहा, ‘मैंने उस काम के बारे में लोगों को बताया जो संघीय सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए कर रही है कि हर बच्चा सुराक्षित हो, हर व्यक्ति सुरक्षित हो, चाहे वह पढ़ाई कर रहा है, पूजा स्थल पर हो या फिर काम के स्थल पर हो।’

गुरुद्वारे का उनका दौरा कुछ दिन पहले तय हो गया था, लेकिन ओरलैंडो की घटना के बाद इसका महत्व इस मायने में बढ़ गया कि सिख समुदाय में नए सिरे से डर बैठ गया। अफगान मूल के बंदूकधारी उमर मतीन ने रविवार (12 जून) को गे क्लब पर गोलीबारी की जिसमें 50 लोग मारे गए और 53 घायल हो गए। व्हाइट हाउस की वरिष्ठ अधिकारी सेसिलिया मुनोज ने कहा, ‘यह बड़ी विविधताओं वाला देश है। हम इस विविधता को संजोते हैं। हम इसका जश्न मनाते हैं। हम अमेरिका में कई योगदानों के लिए सिख समुदाय का आभार प्रकट करते हैं।’ उन्होंने कहा, ‘यह हमारे लोकतंत्र की बुनियाद है कि लोगों के पास प्रार्थना की स्वतंत्रता हो और भय से भी आजादी हो।’

गुरु नानक फाउंडेशन ऑफ अमेरिका के अध्यक्ष परमवीर सिंह सोनी ने स्वीकार किया कि समुदाय में डर की भावना है और अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की ओर से उठाए गए कदमों से सिख अभिभूत हैं। उन्होंने कहा, ‘हम अब भी घृणा अपराधों के खिलाफ अधिक मजबूत कदम उठाने की उम्मीद कर रहे हैं। मुझे लगता है कि अभी और काम करने की जरूरत है, हालांकि प्रगति हो रही है।’ वॉशिंगटन आधारित ‘सिख काउंसिल ऑन रिलिजन एंड एजुकेशन’ के अध्यक्ष डॉक्टर रजवंत सिंह ने कहा कि सिख समुदाय ओरलैंडो गोलीबारी कांड के बाद से प्रतिक्रिया में होने वाली हिंसा को लेकर बहुत चिंतित हैं।

पढें अंतरराष्ट्रीय (International News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट