ओरलैंडो गोलीबारी के बाद कड़े बंदूक नियंत्रण कानून को लेकर बहस छिड़ी

स्कॉट ने कहा, ‘‘ये त्रासदी काफी साझा है और ऐसी घटनाओं को होते देख हम चुप नहीं बैठ सकते। कांग्रेस को हर मौजूदा प्रस्ताव की समीक्षा करनी चाहिए ताकि पता चल सके कि बंदूक हिंसा के सभी रूपों को कम करने के लिए हम क्या कर सकते हैं।’’

orlando attack, america, usa, donald trump, hillary
ओरलैंडो हमले के बाद दुखी और रोती हुई युवतियां

अमेरिका के ओरलैंडो में हुई अंधाधुंध गोलीबारी की घटना में 50 लोगों की मौत होने के बाद बंदूक हिंसा, आतंकवाद के खिलाफ युद्ध और देश में बढ़ते आतंकवाद को लेकर बहस तेज हो गई है और सांसदों ने कड़े बंदूक नियंत्रण कानून बनाए जाने की अपील की है। फ्लोरिडा के सीनेटर मार्को रूबियो ने कहा, ‘‘देश में बढ़ते कट्टरता का खतरा हमारे कानून लागू करने वाली एजेंसियों और खुफिया समुदाय के लिए सबसे बड़ी चुनौती है।’’

सदन के अध्यक्ष पॉल रेयान ने कहा, ‘‘हम इस्लामी आतंकवादियों के साथ युद्धरत देश हैं। उनकी दमनात्मक, घृणास्पद विचारधारा है जिसकी कोई सीमा नहीं है। यह देश और विदेश में हमारे लोगों के लिए खतरा है।’’ हाउस डेमोक्रेटिक कॉकस के उपाध्यक्ष सांसद रॉबर्ट सी. ‘बॉबी’ स्कॉट और कांग्रेस एलजीबीटी इक्वालिटी कॉकस के सदस्य ने कड़े बंदूक नियंत्रण कानून बनाने की मांग की।

स्कॉट ने कहा, ‘‘ये त्रासदी काफी साझा है और ऐसी घटनाओं को होते देख हम चुप नहीं बैठ सकते। कांग्रेस को हर मौजूदा प्रस्ताव की समीक्षा करनी चाहिए ताकि पता चल सके कि बंदूक हिंसा के सभी रूपों को कम करने के लिए हम क्या कर सकते हैं।’’ आतंरिक सुरक्षा एवं सरकारी मामलों की समिति के शीर्ष डेमोक्रेट सांसद ने कहा कि यह भीषण हमला याद दिलाता है कि आतंकवाद के खिलाफ खतरों से अमेरिका को हमेशा सतर्क रहना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘यह महत्वपूर्ण है कि संघीय, राज्य और स्थानीय कानून लागू करने वाले अधिकारी मिलकर काम करें।’’

Next Story
ऐतिहासिक जनमत संग्रह में स्कॉटलैंड ने आजादी को नकारा
अपडेट