ताज़ा खबर
 

उत्तर कोरिया ने किया रॉकेट इंजन परीक्षण

उत्तर कोरिया लगातार ऐसा आइसीबीएम विकसित कर चुकने की बात कहता आया है, जो उसके साम्राज्यवादी शत्रु अमेरिका के मुख्य भूभाग तक निशाना साध सकता है।
Author सोल | June 29, 2017 03:49 am
नॉर्थ कोरिया लीडर किम जोन (एजेंसी)

एक निगरानी समूह ने बुधवार को उत्तर कोरिया द्वारा एक छोटे रॉकेट इंजन का प्रक्षेपण किए जाने की पुष्टि की है। इससे पहले एक अमेरिकी अधिकारी ने कहा था यह परीक्षण अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल विकसित करने की दिशा में एक कदम हो सकता है।प्रतिष्ठित विश्लेषण समूह 38 नॉर्थ ने कहा कि यह बात स्पष्ट नहीं है कि उत्तर कोरिया के सोहे नामक उपग्रह प्रक्षेपण स्थल से जो परीक्षण किया गया है, उसमें आइसीबीएम इंजन लगा था या नहीं। उपग्रह से ली गई तस्वीरों के विश्लेषण के आधार पर वाशिंगटन के समूह ने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि परमाणु हथियारों से संपन्न उत्तर कोरिया ने 22 जून को या उसके आसपास ‘एक छोटा रॉकेट इंजन परीक्षण’ किया है।समूह ने कहा, दस जून को ली गई पिछली तस्वीरें परीक्षण की किसी तैयारी का संकेत नहीं देती हैं। इससे यह पता चलता है कि ‘उत्तर कोरिया के पास ऐसी तकनीकी और साजो सामान संबंधी क्षमताएं हैं, जो बिना की पूर्व चेतावनी के इस तरह के परीक्षणों को अंजाम दे सकती हैं।’ वाशिंगटन के एक अधिकारी ने पिछले सप्ताह रॉयटर्स को बताया कि उत्तर कोरिया ने एक ऐसे इंजन का परीक्षण किया था, जो ‘आइसीबीएम रॉकेट का बेहद शुरुआती चरण हो सकता है।’  लेकिन जॉन्स हॉपकिन्स यूनिर्विसटी से जुड़े 38 नॉर्थ ने इस बारे में सावधानी बरतते हुए कहा कि सिर्फ उपग्रही तस्वीरों से इस बात की पुष्टि संभव नहीं है कि हालिया परीक्षण आइसीबीएम इंजन के लिए था या नहीं।

उत्तर कोरिया लगातार ऐसा आइसीबीएम विकसित कर चुकने की बात कहता आया है, जो उसके साम्राज्यवादी शत्रु अमेरिका के मुख्य भूभाग तक निशाना साध सकता है। बहुत से विश्लेषक इस बात पर संदेह करते हैं लेकिन यह जरूर मानते हैं कि 2011 में किम जोंग-उन के सत्ता संभालने के बाद से देश ने मिसाइल क्षमता में भारी वृद्धि की है।2017 में मिसाइल परीक्षण ’11 फरवरी को उत्तर कोरिया ने पुकगुकसांग-2 मिसाइल जापानी सागर में दागी। यह नई मध्यम दूरी की बैलेस्टिक मिसाइल का पहला परीक्षण था ’6 मार्च को उत्तर कोरिया ने चार बैलेस्टिक मिसाइल तांगचेंग री परीक्षण स्थल से दागीं। कुछ 1000 किलोमीटर तक उड़ने के बाद नाकाम होकर जापानी सागर में गिर गईं ’4 अप्रैल को मध्यम दूरी की एक बैलेस्टिक मिसाइल पूर्वी बंदरगाह सिनपो से जापानी सागर में दागी ’15 अप्रैल को उत्तर कोरिया ने अपने नौसेना बेस सिनपो से मिसाइल दागी जोकि छूटते ही फट गई ’28 अप्रैल को पुकचेंग छोड़ी गई एक अज्ञात मिसाइल टुकड़े टुकड़े होकर समुद्र में समा गई ’13 मई को एक मध्यम दूरी की बैलेस्टिक मिसाइल कुछ दूर उड़ने के बाद जापानी सागर में जा गिरी ’21 मई को एक और पुकगुकसांग-2 मिसाइल का परीक्षण हुआ। यह मिसाइल 300 मील बाद जापानी सागर में समा गई ’29 मई को 450 किलोमीटर का सफर तय करने के बाद छोटी दूरी की बैलेस्टिक मिसाइल जापानी सागर में जा गिरी ’8 जून को उत्तर कोरिया ने कई मिसाइलें छोड़ीं। ये पोत रोधी मिसाइलें थीं। 23 जून को उत्तर कोरिया ने नए रॉकेट इंजन का परीक्षण किया। उसके इस प्रयास को जानकारों ने अमेरिका को जद में लेने वाला कदम माना

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.