ताज़ा खबर
 

हमला होने पर ही करेंगे परमाणु हथियार का इस्तेमाल : उत्तर कोरिया

उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने सत्तारूढ़ दल की कांग्रेस की बैठक में कहा कि उनका देश अपने परमाणु हथियारों का उपयोग तब ही करेगा जब उसकी संप्रभुता को किसी अन्य परमाणु संपन्न देश से खतरा होगा।

Author प्योंगयांग | May 8, 2016 9:39 PM
उत्तर कोरिया नेता किम जोंग उन (रॉयटर्स फाइल फोटो)

उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन ने सत्तारूढ़ पार्टी के सम्मेलन में कहा है कि उनका उनका देश परमाणु हथियार रखने वाला एक ‘जिम्मेदार’ राज्य है जिसकी प्रथम उपयोग नहीं करने की नीति और परमाणु अप्रसार के प्रति प्रतिबद्धता है। उत्तर कोरिया के सरकारी मीडिया ने रविवार (8 मई) को यह कहा।

पिछले 35 साल से अधिक समय में प्रथम वर्कर्स पार्टी सम्मेलन के लिए जुटे हजारों प्रतिनिधियों से बात करते हुए किम ने अर्थव्यवस्था को बेहतर करने और लोगों की जीवनशैली को ऊर्जावान करने के लिए एक नई पंचवर्षीय योजना की भी घोषणा की। सम्मेलन के दूसरे दिन उनकी शनिवार (7 मई) की टिप्पणी इन बढ़ती चिंताओं के बीच आई है कि उत्तर कोरिया पांचवा परमाणु परीक्षण करने की कगार पर खड़ा है।

किम ने परमाणु हथियार कार्यक्रम का बचाव करते हुए सम्मेलन के शुभारंभ पर उस शानदार और रोमांचकारी परीक्षण की सराहना की जिसके बारे में प्योंगयांग ने छह जनवरी को एक शक्तिशाली हाइड्रोजन बम होने का दावा किया था। हालांकि, सम्मेलन में शनिवार (7 मई) को इस बात पर जोर दिया गया कि उत्तर कोरिया परमाणु हथियार वाला एक जिम्मेदार देश है जिसका हथियार प्रतिरोध के लिए है।

Read Also: ‘मेरा नाम सादिक खान है, और मैं लंदन का मेयर हूं’

उत्तर कोरिया की आधिकारिक समाचार एजेंसी केसीएनए के मुताबिक उन्होंने अपने भाषण में कहा, ‘‘हमारा गणराज्य तब तक परमाणु हथियार का उपयोग नहीं करेगा जब तक कि इसकी संप्रभुता का अतिक्रमण परमाणु हथियार सम्पन्न कोई बैरी ताकत नहीं करता।’’

किम ने यह संकल्प भी लिया कि प्योंगयांग अपने परमाणु अप्रसार के दायित्वों को पूरा करेगा और वैश्विक निरस्त्रीकरण पर जोर देगा। उत्तर कोरिया 2003 में परमाणु अप्रसार संधि से हट गया था और ऐसा करने वाला वह प्रथम हस्ताक्षरकर्ता देश था।

प्योंगयांग का परमाणु हथियार सिद्धांत हमेशा ही आत्मरक्षा, प्रतिरोध और खतरे का जटिल मिश्रण रहा है। साल 2006 में अपने प्रथम परमाणु परीक्षण के वक्त उत्तर कोरिया ने जोर देते हुए कहा था कि यह परमाणु हथियार का इस्तेमाल कभी नहीं करेगा।

Read Also: डोनाल्ड ट्रम्प पर बोले बराक ओबामा- व्हाइट हाउस की दौड़ कोई ‘रियलिटी शो’ नहीं

वहीं, जब इसने अप्रैल 2013 में उत्तर कोरिया कानून में अपने परमाणु कार्यक्रम को संहिताबद्ध किया तो इसमें कहा गया कि परमाणु हथियार का इस्तेमाल आक्रमण या किसी अन्य परमाणु शक्ति सम्पन्न शक्ति के हमले का प्रतिरोध करने के लिए किया जा सकेगा।

वहीं, हाल के बरसों में और जनवरी में इसके चौथे परीक्षण को लेकर खासतौर पर संयुक्त राष्ट्र के सख्त प्रतिबंध के मद्देनजर इसने दक्षिण कोरिया और अमेरिका के खिलाफ बार बार हमले की चेतावनी जारी की। किम के पिता और दिवंगत शासक किम जोंग इल की दिसंबर 2011 में मृत्यु होने के बाद उनके सत्ता संभालने के चार साल से अधिक समय के बाद पार्टी सम्मेलन को व्यापक रूप से किम की औपचारिक ताजपोशी के रूप में देखा जा रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App