ताज़ा खबर
 

हाइड्रोजन बम विस्फोट के बाद बोलीं अमेरीकी राजदूत- लगता है उत्तर कोरिया युद्ध के लिए बेकरार है

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत निक्की हेली ने कहा है कि उत्तर कोरियाई शासक किम जोंग उन के रूख से ऐसा लगता है कि वह युद्ध के लिए बेकरार है।
Author सोल | September 5, 2017 15:03 pm
संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत निक्की हेली

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत निक्की हेली ने कहा है कि उत्तर कोरियाई शासक किम जोंग उन के रूख से ऐसा लगता है कि वह युद्ध के लिए बेकरार है। बीते रविवार को उत्तर कोरिया ने कहा कि उसने हाइड्रोजन बम का विस्फोट किया है जिसे लंबी दूरी की मिसाइल के लिए तैयार किया गया है। उसने इसे अपना छठा और सबसे शक्तिशाली परमाणु परीक्षण करार दिया था। हेली ने कहा कि उत्तर कोरियाई शासक किम जोंग उनके कदम को रक्षात्मक के तौर पर नहीं देखा जा सकता।

वह एक परमाणु शक्ति संपन्न के तौर पर स्वीकार्य होना चाहता है। परंतु परमाणु शक्ति संपन्न होने का मतलब यह नहीं है कि खतरनाक हाथियारों का इस्तेमाल दूसरों को धमकाने के लिए किया जाए। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्यों से कहा, ‘‘परमाणु संपन्न शक्तियां अपनी जिम्मेदारियां समझती हैं।

किम जोंग उन दिखाते हैं कि नके पास ऐसी कोई समझ नहीं है।’’ संयुक्त राष्ट्र में भारतीय मूल की अमेरिकी राजदूत ने कहा कि मिसाइलों और परमाणु हथियारों का दुरूपयोग यह दिखाता है कि किम युद्ध के लिए बेकरार हैं। उन्होंने कहा, ‘‘अमेरिका युद्ध कभी नहीं चाहता। हम अब इसे नहीं चाहते। परंतु हमारे देश का धैर्य असीमित नहीं है। हम अपने साझेदारों और अपनी सीमा की रक्षा करेंगे।’

वहीं दूसरी ओर व्हाइट हाउस का कहना है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोरियाई प्रायद्वीप के मुद्दे पर दक्षिण कोरिया और जर्मनी के नेताओं से फोन पर बात की। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, व्हाइट हाउस ने सोमवार को कहा कि ट्रंप और दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे ने उत्तर कोरिया पर दबाव बढ़ाने के लिए सभी विकल्पों के इस्तेमाल पर सहमति बनी।

ट्रंप और मून ने जोर देकर कहा कि उत्तर कोरिया का हाल ही में किया गया परीक्षण पूरे विश्व के लिए खतरनाक है। बयान के मुताबिक, “उन्होंने संयुक्त सैन्य क्षमताएं बढ़ाने की प्रतिबद्धता जताई। सट्रंप और जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने फोन पर कोरियाई प्रायद्वीप परमाणु मुद्दे पर चर्चा की और दोनों ने संयुक्त राष्ट्र में करीबी समन्वय के महत्व पर जोर दिया।

व्हाइट हाउस की ओर से जारी बयान के मुताबिक, दोनों नेताओं ने उत्तर कोरिया के गैरजिम्मेदाराना और उकसावे वाले व्यवहार की निंदा की और कहा कि इससे अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में तनाव बढ़ेगा। बयान के मुताबकि, उत्तर कोरिया के परमाणु मुद्दे को सुलझाने के लिए सभी विकल्पों पर विचार किया जा रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    manish agrawal
    Sep 5, 2017 at 4:34 pm
    American friends ! Ye North Korea hai, jiske paas Hydrogen Bomb aur usko Target tak pahunchaane ke liye ICBM Missiles hain ! Afganistan aur Iraq Non-Nuclear States the, isliye apko War main kaamyaabi mil gayi thee, par yahaan soch samajh kar haath daalna !
    (0)(0)
    Reply