ताज़ा खबर
 

उत्तर कोरिया ने दागीं कम दूरी की दो मिसाइलें, अमेरिका के साथ परमाणु वार्ता बहाली मुहिम को धक्का

दक्षिण कोरिया के ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ के एक अधिकारी ने बताया कि उत्तर कोरिया ने पौ फटने के तुरंत बाद पूर्वी तट के वॉनसन से दो मिसाइलें दागीं। सियोल में एक अधिकारी के मुताबिक एक मिसाइल ने 430 किलोमीटर की दूरी तय की जबकि दूसरी 690 किलोमीटर तक पहुंची।

Author सियोल | July 25, 2019 7:15 PM
उत्तर कोरिया ने बृहस्पतिवार को समुद्र में कम दूरी की दो मिसाइलें दागीं।

उत्तर कोरिया ने बृहस्पतिवार को समुद्र में कम दूरी की दो मिसाइलें दागीं। उसके इस कदम से अमेरिका के साथ परमाणु वार्ता बहाल करने के प्रयासों को धक्का लगा है और यह अमेरिका-दक्षिण कोरिया के बीच नियोजित संयुक्त सैन्य अभ्यासों को लेकर उसके आक्रोश का संकेत भी है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन के बीच पिछले महीने अचानक हुई बैठक के बाद यह उत्तर कोरिया का पहला मिसाइल परीक्षण है। किम और ट्रंप असैन्यीकृत क्षेत्र में 30 जून को हुई बैठक में वार्ता फिर से शुरू करने पर सहमत हो गए थे। इस वार्ता को अभी शुरू होना है और उत्तर कोरिया ने हाल में आगाह किया था कि अमेरिका और दक्षिण कोरिया के बीच होने वाले युद्ध अभ्यासों से वाशिंगटन और प्योंगयांग के बीच परमाणु निरस्त्रीकरण की वार्ता बहाल होने की योजना प्रभावित हो सकती है।

दक्षिण कोरिया के ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ के एक अधिकारी ने बताया कि उत्तर कोरिया ने पौ फटने के तुरंत बाद पूर्वी तट के वॉनसन से दो मिसाइलें दागीं। सियोल में एक अधिकारी के मुताबिक एक मिसाइल ने 430 किलोमीटर की दूरी तय की जबकि दूसरी 690 किलोमीटर तक पहुंची। ऐसा लगता है कि यह एक ‘‘नई तरह की मिसाइल’’ है।

दक्षिण कोरिया के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता चोई ह्यून-सू ने कहा, ‘‘हम उत्तर कोरिया से उन कदमों को रोकने का अनुरोध करते हैं जिनसे सैन्य तनाव कम करने में मदद नहीं मिलेगी।’’ जापान के रक्षा मंत्री ने प्योंगयांग के इस कदम को ‘‘अत्यधिक खेदजनक’’ बताया। साथ ही उन्होंने कहा कि ये मिसाइलें उनके विशिष्ट आर्थिक क्षेत्र में नहीं गिरीं।

उत्तर कोरिया ने आखिरी बार मई में कम दूरी की मिसाइलें दागी थीं जिसे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ‘‘काफी साधारण-सी मिसाइलें’’ बताया था। उन्होंने कहा था कि इससे उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन के साथ उनके रिश्ते प्रभावित नहीं होंगे। दोनों नेताओं ने उत्तर और दक्षिण कोरिया को बांटने वाले असैन्यीकृत क्षेत्र में बिना किसी पूर्व योजना के 30 जून को एक बैठक भी की थी जहां उन्होंने परमाणु वार्ता को फिर से शुरू करने पर सहमति जताई थी। यह वार्ता फरवरी में ट्रंप-किम के बीच दूसरी शिखर वार्ता के बाद बाधित हो गई थी।

इस बैठक के बाद अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने कहा था कि कार्यकारी स्तर की वार्ता संभवत: जुलाई मध्य में शुरू होगी। उत्तर कोरिया ने हालांकि पिछले हफ्ते कहा कि निर्धारित संयुक्त सैन्य अभ्यास से वार्ता बाधित हो सकती है।  इस अभ्यास को ‘‘दबाव’’ करार देते हुए उत्तर कोरिया ने इसकी ंिनदा की और संकेत दिया कि वह अपने परमाणु और लंबी दूरी की मिसाइल परीक्षण पर लगाई गई रोक पर फिर से विचार कर सकता है।

Next Stories
1 नेवी चीफ की चेतावनी- हिन्द महासागर में बढ़ रही चीन का दखल, रक्षा खर्च भी बढ़ा रहा 9.5% सालाना
2 धमाकों से दहला अफगानिस्तान, दर्जनों की मौत और 21 घायल
3 जो हुई थीं बर्खास्त, उसे मिला बड़ा पद: जानिए कौन हैं ब्रिटेन की गृह मंत्री भारतीय मूल की प्रीति पटेल
यह पढ़ा क्या?
X