ताज़ा खबर
 

इराक में लापता हुए 39 भारतीयों को बिना सूबत नहीं बता सकती मृत, ये पाप है: सुषमा स्वराज

विपक्ष ने सुषमा पर आरोप लगाया था कि वह भारतीयों के जीवत होने के बारे में संसद को भ्रमित कर रही हैं।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज।(Photo Source: AP/File)

इराक में लापता हुए भारतीयों के मुद्दे पर लोकसभा में बुधवार को जमकर हंगामा हुआ। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने बुधवार को संसद में कहा कि वह इराक में लापता हुए 39 भारतीयों को बिना सबूत के मृत घोषित करने का पाप अपने सिर नहीं लेंगी। सुषमा स्वराज ने लोकसभा में कहा, “बिना किसी सबूत के किसी को मृत घोषित करना एक गुनाह है और मैं इस पाप की भागीदार नहीं बनूंगी।” विपक्ष ने सुषमा पर आरोप लगाया था कि वह भारतीयों के जीवत होने के बारे में संसद को भ्रमित कर रही हैं। इसी पर सुषमा स्वराज जवाब दे रही थीं।

उन्होंने भरोसा दिलाया कि भारतीयों को ढूंढना सरकार का कर्तव्य है और अभी तक कोई भी शव, खून का निशान, सूची या आईएसआईएस की वीडियो नहीं मिल पाई है। मोसुल से लापता 39 भारतीयों में अधिकतर पंजाब से हैं। 2014 में जब आईएसआईएस ने इराक के दूसरे सबसे बड़े शहर पर कब्जा किया था तब इन भारतीयों को भी बंदी बना लिया था।

हालांकि इराकी सुरक्षा बलों ने नौ जुलाई को मोसुल को इस्लामिक स्टेट से मुक्त करा लिया था। हालांकि इसके बाद विदेश राज्य मंत्री वी.के.सिंह ने इराक का दौरा किया था। इराक के विदेश मंत्री इब्राहिम अल-जाफरी ने सोमवार को कहा था कि मोसुल से लापता 39 भारतीय जीवित हैं या नहीं इसे लेकर वह निश्चित नहीं हैं। मोसुल को आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट के कब्जे से मुक्त करा लिया गया है। अल-जाफरी ने मीडिया से कहा था, “मैं 100 फीसदी निश्चित नहीं हूं कि मोसुल से लापता 39 भारतीय जीवित हैं।”

इस मामले को लेकर देश को गुमराह करने के विपक्ष के आरोपों के संबंध में उन्होंने कहा, ‘‘ मैंने कभी नहीं कहा कि वे जिंदा हैं और न ही मैंने ये कहा कि वे मारे गए हैं । इराक के विदेश मंत्री पिछले दिनों भारत आए थे और उन्होंने यह भरोसा दिया है कि अब वह जो भी जानकारी देगा , सबूत के साथ ही देगा।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App