ताज़ा खबर
 

दावोस में पाक प्रधानमंत्री से नहीं मिलेंगे मोदी

आतंकवादी हाफिज सईद को पाकिस्तानी प्रधानमंत्री द्वारा क्लीन चिट दिए जाने पर भारत ने तीखी प्रतिक्रिया जताई है।

Author नई दिल्ली | January 20, 2018 10:37 am
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (फाइल फोटो)

आतंकवादी हाफिज सईद को पाकिस्तानी प्रधानमंत्री द्वारा क्लीन चिट दिए जाने पर भारत ने तीखी प्रतिक्रिया जताई है। भारत ने कहा कि उसके खिलाफ कई सबूत हैं और पाकिस्तानी हुक्मरान जान-बूझकर अनदेखी कर रहे हैं। इस टिप्पणी के साथ ही भारतीय विदेश मंत्रालय ने स्पष्ट कर दिया कि दावोस में विश्व आर्थिक मंच की बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी के बीच अनौपचारिक मुलाकात की भी संभावना नहीं है। विश्व आर्थिक मंच की बैठक इस साल 22 जनवरी से शुरू हो रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 23 जनवरी को इस बैठक के प्रथम पूर्ण अधिवेशन को संबोधित करेंगे। विदेश मंत्रालय में सचिव (आर्थिक संबंध) विजय गोखले ने कहा कि जहां तक मुझे पता है, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के साथ बैठक की कोई योजना नहीं है।

उनसे पूछा गया था कि क्या मोदी की पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के साथ बैठक की कोई योजना है, क्योंकि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री भी उसी दिन दावोस में होंगे। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि आतंकवादी हाफिज सईद को लेकर पाकिस्तानी सरकार के रवैए का असर द्विपक्षीय संबंधों पर पड़ रहा है। उसके खिलाफ सबूतों को वहां का प्रशासन नजरअंदाज कर रहा है। प्रधानमंत्री मोदी करीब 21 साल बाद दावोस जाने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री है। उनसे पहले 1997 में एच डी देवेगौड़ा दावोस गए थे। वहीं वर्ष 2000 में बिल क्लिंटन के बाद ट्रंप दावोस बैठक में शामिल होने वाले पहले अमेरिकी राष्ट्रपति होंगे।

नरेंद्र मोदी 22-23 जनवरी को वहां होंगे। दावोस में भारतीय नेताओं की बैठकों के बारे में औद्योगिक नीति और संवर्द्धन विभाग (डीआइपीपी) के सचिव रमेश अभिषेक ने कहा कि प्रधानमंत्री 22 जनवरी को दुनिया के 60 शीर्ष मुख्य कार्यकारियों (सीईओ) के साथ एक रात्रिभोज व गोलमेज बैठक की मेजबानी करेंगे। इनमें 40 वैश्विक कंपनियों के और 20 भारतीय कंपनियों के सीईओ होंगे। मोदी 23 जनवरी को निवेशक समुदाय के 120 सदस्यों के साथ परिचर्चा करेंगे। इसमें जनरल मोटर्स, सेल्सफोर्स, रॉयल डच शेल, नेस्ले और जेपी मॉर्गन के प्रमुख शामिल होंगे। प्रधानमंत्री के अलावा अरुण जेटली सहित छह केंद्रीय मंत्री 24 जनवरी को तीन सत्रों को संबोधित करेंगे। सुरेश प्रभु तीन दिन में नौ सत्रों और धर्मेंद्र प्रधान पांच, पीयूष गोयल दस, जितेंद्र सिंह तीन और एमजे अकबर दो सत्रों में भागीदारी करेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App