ताज़ा खबर
 

पब्लिक के अंडों से बचने के लिए बार में छिपे थे फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति सरकोजी, कार्ला ब्रूनी के साथ रखा लिव इन रिलेशन

एक राष्ट्रपति जिसका दिल आया अपने से 12 साल छोटी एक सुपर मॉडल पर…राजनीतिक प्रोटोकॉल को दरकिनार करते हुए वो राष्ट्रपति मॉडल को अपने साथ फ्रांस के प्रेसीडेंट हाउस में ले आता है और उसके साथ लिवइन रिलेशनशिप में रहने लगता है…मगर बदले में वो सुपर मॉडल क्या करती है…वो सुपर मॉडल सरकारी कार्यक्रमों में […]

Author Updated: March 3, 2021 12:50 PM

एक राष्ट्रपति जिसका दिल आया अपने से 12 साल छोटी एक सुपर मॉडल परराजनीतिक प्रोटोकॉल को दरकिनार करते हुए वो राष्ट्रपति मॉडल को अपने साथ फ्रांस के प्रेसीडेंट हाउस में ले आता है और उसके साथ लिवइन रिलेशनशिप में रहने लगता हैमगर बदले में वो सुपर मॉडल क्या करती हैवो सुपर मॉडल सरकारी कार्यक्रमों में अपने पूर्व प्रेमियों को बुलाना शुरु कर देती है और यहीं से शुरु होती है एक मशहूर राजनीतिज्ञ के भ्रष्टाचार और विवादों में धंसते चले जाने की दास्तान

कभी अपनी मेहबूबा के लिए बेशकीमती रंग बिरंगे गुलाबों की सजावट कर देना तो कभी दुनियाभर से छांट कर लाए गए तोहफों की बारिशकुछ ऐसा ही था, निकोलस सरकोजी का अंदा़ज ए इश्कजो उन्हें हो चला था सुपर मॉडल और सिंगर कार्ला ब्रूनी के साथअब आप कहेंगे कि राष्ट्रपति के भी सीने में दिल तो धड़कता ही है फिर भला इज़हारे इश्क में बुराई क्या हैतो जनाब अगर निजी इश्क पर लुटाए गए इन तोहफों का खर्च जनता की टैक्स से जुटाए गए सरकारी खजाने से किया जाएगा तो भला विवाद कैसे नहीं उठेगासरकोजी भी पहली बार इसी शाहखर्ची के चलते विवादों में आए थे, जो खर्च उन्होंने अपनी तब की लिव इन पार्टनर कार्ला ब्रूनी पर किया था

लिव इन में रहते हुए ही सरकोजी अपनी सरकारी यात्राओं में ब्रूनी को साथ ले जाया करते थेबावजूद इसके कि दुनिया के कई देश ब्रूनी को पत्नी ना होने की वजह से प्रोटोकॉल में फर्स्ट लेडी का दर्जा नहीं देते थेहालांकि आगे चलकर सरकोजी और ब्रूनी ने शादी कर लीमगर सरकोजी नहीं जानते थे कि शादी के बाद तो उनकी मुश्किलें और बढ़ने वाली थीं

शादी के बाद ही फ्रांस का राष्ट्रपति भवन विवादों में आ गयावजह बने कार्ला ब्रूनी के तीन पूर्व प्रेमी, जिन्हें वो बिना सरकोजी से इजाज़त लिए राष्ट्रपति भवन बुलाया करती थींखोजी पत्रकार बेसमा लाहौरी अपनी पुस्तक कार्ला, ए सीक्रेट लाइफमें लिखती हैं, “शादी के बाद से ही ब्रूनी किसी न किसी को अपने यहां बुलाकर निकोलस सरकोजी के लिए अतिरिक्त परेशानी खड़ी करती आई हैं। घर आने वालों में गायक, फोटोग्राफर, वकीलों के साथ साथ मीडिया और राजनीति से जुड़े लोग भी शामिल होते थे।कहा जाता है कि कार्ला के पूर्व प्रेमियों की सूची बहुत लंबी थी, जिनमें रॉक स्टार मिक जैगर और एरिक क्लेप्टन जैसे नाम शामिल थे।

कहा जाता है कि सरकोजी राष्ट्रपति रहते काली कमाई का एक भी मौका हाथ से जाने नहीं देते थेफिर चाहे इसके लिए विदेशी फंडिंग का इस्तेमाल ही क्यों ना करना पड़ा होऐसे ही एक आरोप को अगर सच मानें तो सरकोजी ने लीबिया के पूर्व तानाशाह कर्नल गद्दाफी से करोड़ों डॉलर की मदद हासिल की

न्यूज़ पेपर डेली मेल के मुताबिक निकोलस सरकोजी ने लीबिया के पूर्व शासक कर्नल गद्दाफी से करीब 6.5 करोड़ डॉलर की रकम प्राप्त की थी और 2007 में सरकोजी को सत्ता में लाने के लिए इस रकम का इस्तेमाल किया गया। पेरिस में सार्वजनिक हुए दस्तावेजों में यह दावा किया गया है। जबकि फ्रांस का कानून उम्मीदवारों को चंदे के रूप में 6300 पाउंड से अधिक रकम लेने पर रोक लगाता है

ये वो दौर था जब कार्ला ब्रूनी पर किये गए खर्चो और भ्रष्टाचार के आरोपों की वजह से सरकोजी को राजनीतिक तौर पर मुंह छिपा कर घूमना पड़ रहा था, ऐसे में एक दिन ऐसा भी आया कि फ्रेंच प्रेसीडेंट के बॉडी गार्डस को अपने राष्ट्रपति निकोलस सरकोजी को पूरा का पूरा छिपाना पड़ाक्योंकि पब्लिक उन्हें अंडे मारने के लिए दौड़ा रही थी

ब्रिटिश न्यूज़ पोर्टल टेलीग्राफ डॉट को डॉट यूकेके मुताबिक फ्रांस में चुनाव प्रचार कर रहे राष्ट्रपति निकोलस सरकोजी को लोगों की छींटाकशी, तानों और अपमान के चलते एक बार में छिपना पड़ा। राष्ट्रपति चुनाव के लिए सरकोजी बास्क्यू काउंटी में प्रचार के लिए गए थे लेकिन भीड़ में मौजूद कुछ लोगों ने उन पर अंडे फेंके और अपमानजनक नारे लगाए जिसके चलते सरकोजी को करीब एक घंटे तक बार के भीतर रुकना पड़ा। बाद में सुरक्षाकर्मियों ने घेरा बनाकर उन्हें वहां से निकाला।

उस वक्त सरकोजी ने इस घटना को विरोधी सोशलिस्ट पार्टियों की साजिश करार दिया था, मगर अब जब अदालत ने उन्हें कानूनन भ्रष्टाचार का दोषी पाते हुए सजा का ऐलान किया है तो ऐसे में ये कहना गलत ना होगा कि शायद उस वक्त सरकोजी अपने खिलाफ जनता की नाराज़गी को भांप नही पाए थे

Next Stories
1 कोरोना वैक्सीन पर भारत की सफलता नहीं पचा पा रहा चीन, SII और भारत बायोटेक को टारगेट कर रहे चीनी हैकर
2 पाकिस्तानः जेयूआईएफ से जुड़े मौलवी और दो अन्य की गोली मारकर हत्या
3 ‘हटा सकते हैं तो मुझे PM पद से हटा दें’, ओली की ‘प्रचंड’ को चुनौती
ये पढ़ा क्या?
X