ताज़ा खबर
 

कंसास गोलीबारी: न्यूयॉर्क टाइम्स ने कहा, ट्रंप की खामोशी ने अमेरिका में घृणा अपराध को भड़काने का काम किया

समाचार पत्र ने कहा,‘घृणा की निंदा करने की बजाय राष्ट्रपति ने उसे भड़काया है। उन्होंने कंसास गोलीबारी पर कुछ नहीं कहा है।’

Author न्यूयॉर्क | March 1, 2017 12:19 AM
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप। (Source: AP Photo)

अमेरिका के प्रमुख समाचार पत्रों में से एक न्यूयॉर्क टाइम्स ने कहा है कि कंसास में एक भारतीय की गोली मार कर हत्या किए जाने के मामले पर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की चुप्पी ने ‘अमेरिका में घृणा अपराध को भड़काने का काम किया है। अखबार ने साथ ही चेतावनी दी है कि उनकी खामोशी देश की ताकत और जीवंतता को नुकसान पहुंचाएगी। समाचार पत्र ने सोमवार (27 फरवरी) को अपने संपादकीय ‘हू बिलॉग्स इन ट्रंप्स अमेरिका‘ में लिखा, ‘राष्ट्रपति ट्रंप और उनके प्रशासन ने न केवल प्रवासियों और विदेशी आगंतुकों को देश से बाहर रखने का प्रयास किया बल्कि उन्होंने उन्हें अपराधी, संभावित आतंकवादी और घुसपैठिए करार दे कर किया है जो कि नौकरियां छीनने और अमेरिकियों की जान पर खतरा बन कर आए हैं।’

समाचार पत्र ने कहा,‘घृणा की निंदा करने की बजाय राष्ट्रपति ने उसे भड़काया है। उन्होंने कंसास गोलीबारी पर कुछ नहीं कहा है।’ संपादकीय में आगे कहा गया है कि घृणा की प्रत्येक घटना को बहुत आसानी से विक्षुब्द व्यक्ति का कार्य करार दिया जाता है, लेकिन अगर यही कार्य किसी मुसलमान अथवा प्रवासी ने किया होता तो ट्रंप ने यकीनन यह दावा किया होता कि वह सही थे। संपादकीय में आगे कहा गया है कि अगर ट्रंप कुछ नहीं करते तो वह घृणा अपराध के अपराधियों को सक्षम करते हैं और वह देश की ताकत और जीवंतता को नुकसान पहुंचाएंगे।

51 वर्षीय अमेरिकी पूर्व नौसैन्य कर्मी एडम पुरिंटन ने भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास कुचिभोटला (32) की गोली मारकर हत्या कर दी और 32 वर्षीय आलोक मदसानी को घायल कर दिया। एडम ने नस्लीय टिप्पणी करते हुए कहा ‘मेरे देश से बाहर निकल जाओ।’ ‘हू बिलॉग्स इन ट्रंप्स अमेरिका‘ संपादकीय मारे गए इंजीनियर की पत्नी सुनयना दुमाला के प्रश्न को उठाता है। इसमें ट्रंप को 24 वर्षीय इयान ग्रिलॉट से सीख लेने को कहा गया है जो कंसास हमलावर से भिड़ गया था और घायल हो गया था। ग्रिलॉट ने अस्पताल के बिस्तर से एक वीडियो जारी किया। इसमे उसने कहा,‘मैं सिर्फ वहीं कर रहा था जो किसी को भी अगले इंसान के लिए करना चाहिए। यह इस बारे में नहीं है कि वह कहां से था या उसकी जाति क्या थी।’

डोनाल्ड ट्रंप जल्द कर सकते हैं 'यात्रा प्रतिबंध' के नियमों में बदलाव; वापस ले सकते हैं फैसला

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App