ताज़ा खबर
 

सीरिया: महिला कैदियों के साथ होती है ऐसी बर्बरता, जेल में पहले होता है रेप फिर प्रेगनेंसी रोकने के लिए खिलाई जाती हैं पिल्स

लंडन के स्कूल ऑफ इक्नॉमिक्स स्थित सेंटर फॉर वुमेन, पीस एंड सिक्योरिटी ने अपनी रिपोर्ट में चौंकाने वाला दावा किया है।

इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

लंडन स्कूल ऑफ इक्नॉमिक्स स्थित सेंटर फॉर वुमेन, पीस एंड सिक्योरिटी ने चौंकाने वाला दावा किया है। रिपोर्ट के मुताबिक सीरिया की जेलों में कैद महिलाओं के खिलाफ बर्बर हिंसा की गई है। यह रिपोर्ट सुरक्षा बलों की भूमिका पर भी गंभीर सवालिया निशान खड़े करते हैं। रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि जेल में बंद महिला कैदियों के साथ रोज रेप और टॉर्चर किए जाने हैं। महिलाओं को किसी मामूली सी गलती के लिए भी बहुत टॉर्चर किया जाता है। वहीं रिपोर्ट में यह बात भी कही गई है कि यह काम इतने संगठित तरीके से किया जाता है कि महिलाओं को प्रेग्नेंसी से बचाने के लिए पिल्स भी खिलाई जाती हैं। सीरिया में इंटेरोगेशन और रेप्स को कम करने के लिए कोई कड़े कदम नहीं उठाए गए हैं। वहीं सीरिया की एक महिला वकील ने अपनी आपबीती भी बताई है।

बसीमा ने बताया कि उसे आतंकियों की मदद करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। वहीं उनका दावा है कि वह लोगों को फर्स्ट एड की ट्रेनिंग दे रही थीं लेकिन उनकी बात नहीं मानी गई। जब उन्हें जेल में बंद किया तो उन्हें रोज टॉर्चर किया जाता था। बसीमा को सरकार और आतंकियों के बीच हुए एक सौदे के जरिए बचाया गया था जिसमें सीरियन सरकार ने कुछ आतंकियों को छोड़ने की मांग को पूरा किया था। बसीमा की तरह ही कई केसिस सामने आए हैं। वहीं रिपोर्ट ऐसे समय पर आई है जब जिनीवा में दुनिया की सभी बड़ी ताकतें सीरिया में शांति बहाली की कोशिश करेंगे।

वहीं इससे पहले भी एमनेस्टी इंटरनेशनल ने एक रिपोर्ट दी थी जिसमें यह पाया गया था कि सीरिया में एक ही जेल में लगभग 13 हजार लोगों को जानवरों की तरह रखा गया था। आखिरी बार सीरिया को लेकर यूएन की बातचीत अप्रेल 2016 में हुई थी। गौरतलब है 2014 में सीरिया पर आतंकी संगठन आईएसआईएस ने अपना कब्जा कर लिया था। आतंकी संगठन के खिलाफ अभी तक लड़ाई जारी है। वहीं लड़ाई में आईएसआईएस की कमर काफी हद तक तोड़ दी गई है। सीरियाई सुरक्षा बलों ने आईएसआईएस के कब्जे से मोसुल शहर को आजाद करा लिया है।

देखें वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App