ताज़ा खबर
 

नेपाल में फिर हिंसा, पुलिस की गोली ने ली मधेसी छात्र की जान

दक्षिणी नेपाल में झड़पों के दौरान पुलिस गोली में 10 वीं कक्षा के एक मधेसी छात्र की रविवार को मौत हो गई। नए संविधान को लेकर चार महीने से चल रहे आंदोलन के तहत भारतीय मूल के मधेसियों के ताजा विरोध प्रदर्शन ने तराई क्षेत्र को अपनी लपेटे में ले लिया है..

Author काठमांडो | December 21, 2015 12:07 AM
नेपाली पुलिस मधेसियों को हटाने के लिए आंसू गैस का इस्तेमाल करती हुई। (एपी फाइल फोटो)

दक्षिणी नेपाल में झड़पों के दौरान पुलिस गोली में 10 वीं कक्षा के एक मधेसी छात्र की रविवार को मौत हो गई। नए संविधान को लेकर चार महीने से चल रहे आंदोलन के तहत भारतीय मूल के मधेसियों के ताजा विरोध प्रदर्शन ने तराई क्षेत्र को अपनी लपेटे में ले लिया है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि राउताहाट जिला मुख्यालय गौर में यूनाइटेड डेमोक्रेटिक मधेसी फ्रंट के प्रदर्शन के दौरान पुलिस की गोलीबारी में 18 साल के तवरेज आलम की मौत हो गई। वहां करीब 1500 प्रदर्शनकारियों की भीड़ ने सुरक्षा कर्मियों पर पथराव करना शुरू कर दिया था। जुद्दा उच्च माध्यमिक विद्यालय में 10 वीं के छात्र आलम को राउताहाट जिला अस्पताल ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

संविधान संशोधन विधेयक की एक प्रति जलाए जाने के दौरान उसे एक गोली लगी थी। चिकित्सा अधीक्षक कृष्णा शाह ने बताया कि आलम की मौत किडनी और अंदरूनी हिस्सों में आई चोट के चलते हुई। प्रत्यक्षदर्शियों ने दावा किया कि पुलिस कर्मियों ने उस पर लात घूंसे चलाए, जबकि वह गोली लगने से घायल था। मुख्य जिला अधिकारी नरहरि बराल ने बताया कि प्रदर्शन के हिंसक होने पर अधिकारियों को बल प्रयोग के लिए मजबूर होना पड़ा। जिला प्रशासन ने हिंसा के बाद गौर इलाके में अनिश्चितकालीन कर्फ्यू लगा दिया है। हालात तनावपूर्ण है।

प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने बढ़ते तनाव के मद्देनजर आपात बैठक बुलाई है। गौर और बीरगंज सहित दक्षिणी नेपाल में कल से ही तनाव है क्योंकि यूडीएमएफ ने अशांत क्षेत्र में नए चरण का प्रदर्शन शुरू करते हुए आरोप लगाया है कि सरकार वार्ता के दौरान गंभीर नहीं है।

अगस्त से चल रहे मधेसी नीत आंदोलन में कम से कम 50 लोग मारे गए हैं। प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़पों के बाद नेपाल के सीमावर्ती इलाकों में तनाव है। सरलाही में पुलिस ने कई यूडीएमएफ कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया जो जिला प्रशासन कार्यालय को बंद कराने जा रहे थे। यूडीएमएफ ने नए चरण के प्रदर्शन की घोषणा की है क्योंकि उसका मानना है कि ओली सरकार उनके साथ वार्ता को हल्के में ले रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App