ताज़ा खबर
 

नेपाली प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा ने दिया इस्तीफा, वाम-मोर्चा की बनेगी अगली सरकार?

शेर बहादुर देउबा सीपीएन (माओवादी सेन्टर) के समर्थन से पिछले वर्ष छह जून को नेपाल के 40वें प्रधानमंत्री बने थे। सीपीएन (माओवादी सेन्टर) अब वामपंथी गठबंधन का हिस्सा है और सीपीएन-यूएमएल के साथ विलय कर रहा है।

Author काठमांडू | February 15, 2018 1:57 PM
शेर बहादुर देउबा। (Reuters Pic)

नेपाल के प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा ने गुरुवार को अपने पद से इस्तीफा देकर वाम-मोर्चा की अगली सरकार के गठन के लिए रास्ता साफ कर दिया है। गौरतलब है कि देश में हुए ऐतिहासिक संसदीय और स्थानीय चुनावों में पार्टी की बुरी हार के करीब दो महीने बाद देउबा ने इस्तीफा दिया है। देउबा सीपीएन (माओवादी सेन्टर) के समर्थन से पिछले वर्ष छह जून को नेपाल के 40वें प्रधानमंत्री बने थे। सीपीएन (माओवादी सेन्टर) अब वामपंथी गठबंधन का हिस्सा है और सीपीएन-यूएमएल के साथ विलय कर रहा है। टेलीविजन प्रसारण के दौरान देउबा ने कहा, ‘‘मेरे नेतृत्व में सरकार के तीनों स्तरों के लिए मतदान सफलतापूर्वक पूरा हुआ और उसने सत्ता हस्तांतरण की नींव रखी।’’

काठमांडो पोस्ट की खबर के अनुसार, देउबा जल्दी ही राष्ट्रपति विद्या देबी भंडारी को अपना इस्तीफ सौंपेंगे। वामपंथी गठबंधन पहले ही राष्ट्रपति के समक्ष सरकार बनाने का दावा पेश कर चुका है। गठबंधन ने यूएमएल अध्यक्ष के. पी. शर्मा ओली को अपने प्रधानमंत्री के रूप में पेश किया है। सीपीएन-यूएमएल और सीपीएन-माओवादी सेन्टर गठबंधन को दिसंबर में हुए आम चुनावों में 275 में से 174 सीटों पर जीत मिली है। सीपीएन-यूएमएल का नेतृत्व ओली जबकि सीपीएन-माओवादी सेन्टर का नेतृत्व प्रचंड करते हैं।

ओली (65) पहले भी 11 अक्तूबर, 2015 से तीन अगस्त, 2016 तक नेपाल के प्रधानमंत्री रह चुके हैं। वहीं दूसरी तरफ, दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति जैकब जुमा ने अपनी सत्तारूढ़ पार्टी अफ्रीकन नेशनल कांग्रेस (एएनसी) के साथ चल रहे गतिरोध को खत्म करते हुए गुरुवार को राष्ट्रपति पद से इस्तीफा दे दिया। एएनसी उन्हें पद से हटाने के लिए विपक्षी पार्टी के साथ मिलकर संसद में अविश्वास प्रस्ताव लाने की योजना बना रही थी।

जुमा का यह इस्तीफा सोमवार को तड़के एएनसी के राष्ट्रीय नेतृत्व की एक मैराथन बैठक के तीन दिन बाद आया है। इसी बैठक में जुमा से इस्तीफा मांगने का निर्णय लिया गया था। हालांकि उन्होंने तब पद से इस्तीफा देने से इंकार कर दिया था। जुमा ने राष्ट्रीय प्रसारण में कहा, ‘‘मैं दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति पद से तत्काल प्रभाव से इस्तीफा देता हूं।’’ इसके साथ ही जुमा का नौ साल का कार्यकाल दूसरे और अंतिम कार्यकाल से नौ महीने पहले खत्म हो गया। उनका कार्यकाल साल 2019 के आम चुनाव के साथ खत्म होना था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App