ndia and Bangladesh are constantly getting stronger - ‘भारत-बांग्लादेश के संबंध बड़े-छोटे भाई जैसे’ - Jansatta
ताज़ा खबर
 

‘भारत-बांग्लादेश के संबंध बड़े-छोटे भाई जैसे’

बांग्लादेश के उच्चायुक्त ने आइडब्लूपीसी की महिलाओं का स्वागत करते हुए कहा कि भारत और बांग्लादेश के मजबूत होते संबंधों को किसी की नजर न लगे। उन्होंने कहा कि ऐसे प्रगाढ़ रिश्ते पहले कभी नहींं हुए थे। दोनों देश दुनिया में एक मात्र ऐसे पड़ोसी हैं, जिनके बीच असल तौर पर बड़े और छोटे भाई जैसा संबंध है।

Author June 1, 2018 5:47 AM
बांग्लादेश के उच्चायुक्त एचई सयैद मौअजिम अली।

सुमन केशव सिंह

भारत और बांग्लादेश के संबंध लगातार मजबूत हो रहे हैं। दोनों देश अपने संबंधों के माध्यम से एक-दूसरे के विकास के लिए प्रतिबद्ध हैं। दोनों देशों के लोग न केवल भाषा-बोली के माध्यम से एक-दूसरे से जुड़े हैं बल्कि दोनों के बीच रोटी-बेटी का भी संबंध है। हम इस रिश्ते को और मजबूती देना चाहते हैं। इसके लिए भारत की मौजूदा सरकार की नीतियां सराहनीय हैं। ये बातें बांग्लादेश के उच्चायुक्त एचई सयैद मौअजिम अली ने गुरुवार को इंडियन विमेंस प्रेस कॉर्प (आइडब्लूपीसी) की ओर आयोजित एक कार्यक्रम में कहीं। कार्यक्रम की अध्यक्षता आइडब्लूपीसी की अध्यक्ष टीके राजलक्ष्मी ने की।

बांग्लादेश के उच्चायुक्त ने आइडब्लूपीसी की महिलाओं का स्वागत करते हुए कहा कि भारत और बांग्लादेश के मजबूत होते संबंधों को किसी की नजर न लगे। उन्होंने कहा कि ऐसे प्रगाढ़ रिश्ते पहले कभी नहींं हुए थे। दोनों देश दुनिया में एक मात्र ऐसे पड़ोसी हैं, जिनके बीच असल तौर पर बड़े और छोटे भाई जैसा संबंध है। उन्होंने कहा कि हमारे देश में महिलाओं की राजनीतिक, आर्थिक और सामाजिक क्षेत्र में हिस्सेदारी लगातार बढ़ रही है। इसके लिए शेख हसीना की सरकार विशेष रूप से प्रयासरत है। इसके लिए 10 फीसद का आरक्षण भी तय किया गया है। इसका नतीजा यह है कि बांग्लादेश के लगभग 30 फीसद उच्च पदों पर महिलाओं कब्जा है। आइडब्लूपीसी की महासचिव रविंद्र बावा भी कार्यक्रम में उपस्थित थीं।
दोनों देशों के बीच मतभेद नहींं सांस्कृति जुड़ाव है

अली ने कहा कि भारत और बांग्लादेश के बीच किसी प्रकार का मतभेद नहींं है लेकिन तिस्ता नदी के पानी के बंटवारे को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की तारीफ करते हुए कहा कि तत्कालीन सरकार की नीतियां काफी प्रभावशाली हैं। उन्होंने उम्मीद जताई कि यह विवाद जल्द ही सुलझ जाएगा। उन्होंने इस विवाद को सुलझाने में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के सकारात्मक रवैये की भी बात कही। उन्होंने आतंकवाद पर कहा कि दोनों ही देशों का आतंकवाद को लेकर एक जैसा ही रुख है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App