ताज़ा खबर
 

उरी हमले पर सवालों से भागे नवाज शरीफ और सरताज अजीज, पर अमेरिका के सामने उठाया कश्‍मीर का मुद्दा

पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने अमेरिका के सामने कश्‍मीर का मुद्दा उठाया है। शरीफ ने अमेरिका के विदेश मंत्री जॉन कैरी से मुलाकात के दौरान यह मुद्दा उठाया।

Author नई दिल्‍ली | September 20, 2016 7:57 AM
उरी हमले को लेकर सवाल किया गया तो शरीफ बचते दिखाई दिए।

पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने अमेरिका के सामने कश्‍मीर का मुद्दा उठाया है। शरीफ ने अमेरिका के विदेश मंत्री जॉन कैरी से मुलाकात के दौरान यह मुद्दा उठाया और उनसे कश्‍मीर मामले में दखल देने को कहा। लेकिन जब उनसे उरी हमले को लेकर सवाल किया गया तो शरीफ बचते दिखाई दिए। समाचार एजेंसी एएनआई के संवाददाता ने न्‍यूयॉर्क में संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ के सम्‍मेलन में शामिल होने आए शरीफ से उरी हमले पर सवाल पूछना चाहा। लेकिन पहले तो वे अनुसना और अनदेखा करते नजर आए। बाद में उन्‍होंने हाथ उठाकर इनकार कर दिया। उनके साथ चल रहे सुरक्षाकर्मियों ने बाद में पत्रकार को रोक दिया।

इसी सिलसिले में पाकिस्‍तानी पीएम शरीफ के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज ने भी कोई सवाल सुनने से इनकार कर दिया। वे अपनी गाड़ी में ही बैठे रहे और उनकी ओर से कोई जवाब नहीं आया। इससे पहले अजीज ने सोमवार को कहा, ”पाकिस्तान ने कल (रविवार, 18 सितंबर) उरी में हुए हमले के बाद भारत के असैन्य और सैन्य नेतृत्व की ओर से आए ‘तीखे’ और ‘अप्रमाणित’ बयानों को गंभीर चिंता के साथ लिया है। यह कश्मीर में हिजबुल के कमांडर बुरहान वानी की मौत के बाद तेजी से बिगड़ी मानवीय एवं मानवाधिकारों की स्थिति से ध्यान हटाने की भारत की कुंद कोशिश है।” पाकिस्‍तानी मीडिया में भी खबरें आई थी कि भारत बिना सबूतों के पाकिस्‍तान पर तोहमत लगा रहा है।

उरी हमला: जहां मार गिराया था, सेना ने वहीं दफन कराए चारों आतंकी

उरी हमले के बाद भारतीय सेना की ओर से बताया गया था कि मारे गए आतंकियों के पास से पाकिस्‍तान मार्का लगे हथियार, खाने की सामग्री मिली है। उनके पास से पश्‍तो भाषा में लिखे दस्‍तावेज भी मिले हैं। डीजीएमओ ने बताया कि आतंकी जैश ए मोहम्‍मद के हो सकते हैं। हालांकि अब सामने आ रहा है कि हमले के पीछे लश्‍कर का हाथ हो सकता है। गौरतलब है कि उरी हमले में भारतीय सेना के 18 जवान शहीद हुए थे। साथ ही 19 सैनिक घायल हो गए थे। हमला रविवार सुबह साढ़े पांच बजे के लगभग हुआ था।

सेना में जाना चाहता है उड़ी में शहीद हुए हवलदार रवि पाल का बेटा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App