ताज़ा खबर
 

NASA को मिले चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर के अवशेष, ट्वीट की तस्वीरें

नासा ने अपने लूनर रिकॉनेसेंस ऑर्बिटर (LRO) सैटेलाइट की खींची तस्वीरों को ट्वीट किया है। इनमें लैंडर के टकराने वाली जगह और मलबे वाले क्षेत्र को दिखाया गया है।

Author Updated: December 3, 2019 7:34 AM
अमेरिकी एजेंसी ने घटना के पहले और बाद की तस्वीरें भी पोस्ट कीं। (Photo: Twitter/NASA)

अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा के मुताबिक, चांद की परिक्रमा कर रहे उसके सैलेटलाइट्स ने भारतीय अंतरिक्ष मिशन चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम को चांद की सतह पर तलाश लिया है। बता दें कि 7 सितंबर को चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग की कोशिश कर रहे विक्रम लैंडर से मिशन पूरा होने के चंद सेकेंड पहले संपर्क टूट गया था।

नासा ने अपने लूनर रिकॉनेसेंस ऑर्बिटर  (LRO) सैटेलाइट की खींची तस्वीरों को ट्वीट किया है। इनमें लैंडर के टकराने वाली जगह और मलबे वाले क्षेत्र को दिखाया गया है। नासा ने एक बयान में कहा कि मलबा मेन क्रैश साइट से 750 मीटर उत्तर पश्चिम में मिला। अमेरिकी एजेंसी ने घटना के पहले और बाद की तस्वीरें भी पोस्ट कीं, जिनसे चांद की सतह पर लैंडर के टकराने के बाद हुए असर के बारे में पता चलता है।

बता दें कि चांद की सतह पर उतरने की कोशिश के बाद इसरो ने इस बात की पुष्टि की थी कि उसका ऑर्बिटर से संपर्क पूरी तरह खत्म हो चुका है। बाद में नासा ने कहा था कि चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर की चांद की सतह पर ‘हार्ड लैंडिंग’ हुई थी। विक्रम लैंडर चंद्रयान-2 स्पेसशिप के तीन प्रमुख हिस्सों में से एक था। चांद की सतह पर उतरने के 2.1 किमी पहले इससे संदेश आने बंद हो गए। अगर यह मिशन कामयाब होता तो भारत ऐसा करने वाला दुनिया के चंद देशों में शुमार हो जाता। इस मिशन पर करीब 1000 करोड़ रुपये का खर्च आया था। मकसद तो यही था कि विक्रम लैंडर के अंदर रखा प्रज्ञान रोवर एक चंद्र दिवस ( धरती के 14 दिन) तक चंद्रमा की सतह पर भ्रमण करता और जरूरी आंकड़े और तथ्य जुटाता।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 लंदन ब्रिज चाकूबाजी हमला: आतंकी गतिविधियों में शामिल होने के मामले में सजा काट चुका था हमलावर
2 बीमार शरीफ का लंदन में हो रहा है पीईटी, सीटी स्कैन
3 दक्षिण कोरिया ने आर्थिक वृद्धि का अनुमान घटाया, दशक में निचले स्तर तक पहुंचा
जस्‍ट नाउ
X