ताज़ा खबर
 

एक्ट ईस्ट नीति की धुरी है आसियान: नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि भारत की ‘एक्ट ईस्ट’ नीति में आसियान मुख्य केंद्र बिंदु है। वे मंगलवार को म्यांमा रवाना हो गए। वहां वो दस देशों के इस समूह की शिखर बैठक और पूर्वी एशियाई शिखर बैठक में भाग लेंगे। प्रधानमंत्री एअर इंडिया के विशेष विमान से रवाना हुए। प्रधानमंत्री […]

म्यांमा की राजधानी ने पी ताव स्थित प्रेसिडेंशियल पैलेस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को स्मृति चिन्ह भेंट करते राष्ट्रपति थे इन सिन। (फोटो: भाषा)

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि भारत की ‘एक्ट ईस्ट’ नीति में आसियान मुख्य केंद्र बिंदु है। वे मंगलवार को म्यांमा रवाना हो गए। वहां वो दस देशों के इस समूह की शिखर बैठक और पूर्वी एशियाई शिखर बैठक में भाग लेंगे। प्रधानमंत्री एअर इंडिया के विशेष विमान से रवाना हुए।

प्रधानमंत्री अपनी 10 दिवसीय विदेश यात्रा के पहले चरण में ने पी ताव जाएंगे। अपनी यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री समूह 20 की शिखर बैठक में भाग लेने के लिए आस्ट्रेलिया और उसके बाद फिजी जाएंगे। विदेश यात्रा पर रवाना होने से पहले प्रधानमंत्री ने कहा कि आसियान हमारी एक्ट ईस्ट नीति की धुरी है। वह एशियाई सदी के हमारे सपने का केंद्र है। सहयोग और एकीकरण इसकी विशेषताएं हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें आसियान देशों के नेताओं के साथ इस विषय पर चर्चा का इंतजार है कि हम अपने संबंधों को अगले स्तर पर कैसे ले जा सकते हैं जिससे प्रत्येक सदस्य के साथ द्विपक्षीय संबंधों को गहरा करने में मदद मिलेगी। प्रधानमंत्री 12-13 नवंबर को म्यांमा की राजधानी ने पी ताव में भारत-आसियान और पूर्वी एशिया शिखर बैठक और ब्रिस्बेन में समूह 20 के शिखर देशों की बैठक के दौरान एशिया, यूरोप, अफ्रीका, उत्तरी अमेरिका, दक्षिण अमेरिका और प्रशांत क्षेत्रीय देशों के 40 से अधिक नेताओं से मुलाकात करेंगे। वह फिजी की भी यात्रा करेंगे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया के किसी भी क्षेत्र में न तो इतनी गतिशीलता है और न ही उसके सामने इतनी चुनौतियां हैं जितनी हिंद महासागर, एशिया महाद्वीप और प्रशांत महासागर क्षेत्र के सामने हैं। उन्होंने कहा कि पूर्वी एशिया शिखर बैठक में क्षेत्र और विश्व के भविष्य को आकार देने की क्षमता है। शांति, स्थिरता और समृद्धि की खोज में मुझे पूर्वी एशिया शिखर बैठक में आसियान और विश्व के सात प्रमुख नेताओं के साथ क्षेत्रीय संस्थानों और अंतरराष्ट्रीय नियमों को मजबूती प्रदान करने के उपायों पर चर्चा का इंतजार है।

म्यांमा में अंतरराष्ट्रीय शिखर बैठकों से अलग मोदी का मेजबान देश के राष्ट्रपति थेइन सिन के अलावा रूस के प्रधानमंत्री दमित्री मेदवेदेव, दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति पार्क ग्यून हेई और सिंगापुर के राष्ट्रपति टोनी तान से मुलाकात का कार्यक्रम है। आसियान सदस्य देशों में ब्रुनेई, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओस, मलेशिया, म्यांमा, सिंगापुर, थाइलैंड, फिलीपींस और वियतनाम शामिल हैं जबकि पूर्वी एशिया शिखर (ईएएस) सदस्यों में दस आसियान देशों के अलावा आस्ट्रेलिया, चीन, जापान, न्यूजीलैंड, दक्षिण कोरिया, रूस और अमेरिका शामिल हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा है कि समूह 20 शिखर सम्मेलन में काले धन के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय सहयोग के महत्व को रेखांकित करना एक प्रमुख मुद्दा होगा। वह अन्य नेताओं के साथ अत्याधुनिक संरचना विकसित करने के उपायों पर भी चर्चा करेंगे। इनमें डिजिटल संरचना शामिल है। इसके साथ ही वह स्वच्छ और कम लागत वाली ऊर्जा तक पहुंच सुनिश्चित करने के विषय को भी उठाएंगे।

प्रधानमंत्री ने इस बात को रेखांकित किया कि समूह 20 देश विश्व के आर्थिक उत्पादन में 85 फीसद की हिस्सेदारी रखते हैं और वैश्विक आर्थिक वृद्धि, स्थिरता, स्थिर वित्तीय बाजारों, वैश्विक कारोबारी व्यवस्थाओं और रोजगार सृजन की दृष्टि से गतिविधियों में समन्वय स्थापित करने के लिहाज से यह एक महत्त्वपूर्ण फोरम है।

मोदी कैनबरा में समूह 20 शिखर बैठक के बाद आस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री टोनी एबट से भी द्विपक्षीय चर्चा करेंगे। 1986 में राजीव गांधी के बाद 28 साल में आस्ट्रेलिया की यात्रा पर जाने वाले वह पहले भारतीय प्रधानमंत्री होंगे। प्रधानमंत्री ने कहा कि आस्ट्रेलिया के साथ हमारी काफी समानता है, लेकिन हमारे राजनीतिक, रणनीतिक और आर्थिक संबंधों का क्षमताओं के मुताबिक दोहन नहीं हुआ है। आस्ट्रेलिया के साथ घनिष्ठ रणनीतिक साझेदारी की वकालत करते हुए उन्होंने कहा कि वह जहाजरानी सुरक्षा समेत हमारे सुरक्षा हितों और आर्थिक लक्ष्यों में सहयोग देगा और हमारे पड़ोसी द्वीपीय देशों के साथ शांति और स्थिरता का माहौल बनाने में हमारे प्रयासों को बल प्रदान करेगा। अपनी 16 नवंबर से आस्ट्रेलिया के चार शहरों की तीन दिवसीय यात्रा के दौरान वे मेलबर्न, सिडनी और कैनबरा जाएंगे।

प्रधानमंत्री ने 19 नवंबर को अपनी एक दिवसीय फिजी यात्रा के संबंध में कहा कि इस देश की यात्रा करना उनके लिए सौभाग्य की बात होगी। इसके साथ भारत के ऐतिहासिक और जातीय संबंध हैं। 33 सालों के अंतराल के बाद मोदी फिजी की यात्रा करने वाले पहले प्रधानमंत्री होंगे। इससे पूर्व इंदिरा गांधी 1981 में इस देश की यात्रा पर गई थीं। मोदी वहां प्रधानमंत्री फ्रैंक बेनिमारामा से भी मुलाकात करेंगे। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत के मंगल अभियान के दौरान हमारे वैज्ञानिकों की मेजबानी करने के लिए हम फिजी के आभारी हैं। फिजी की आठ लाख 49 हजार की आबादी में से 37 फीसद भारतीय मूल के हैं। बहुत से भारतीय 19वीं सदी में ठेका मजदूरों के रूप में फिजी गए थे और वहां जाकर बस गए थे। उन्होंने कहा कि वह फिजी और प्रशांत क्षेत्र के अन्य देशों के साथ भविष्य में नियमित संपर्क स्थापित करने के इच्छुक हैं।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App