ताज़ा खबर
 

‘मोदी के हर अतिरिक्त 60 सेकंड ने 10 करोड़ लोगों का प्रतिनिधित्व किया’

संयुक्त राष्ट्र में एक अरब 20 करोड़ लोगों का प्रतिनिधित्व कर रहे मोदी को अपना संबोधन पूरा करने के लिए अतिरिक्त 13 मिनट लेने पड़े। इसका अर्थ यह है कि हर 10..

Author संयुक्त राष्ट्र | Published on: September 26, 2015 3:23 PM
नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में जलवायु न्याय की ध्यान केंद्रित किया। उन्होंने कहा कि साझे लेकिन विभेदित जिम्मेदारियों का सिद्धांत विश्व के सामूहिक उद्यम का आधार है।(पीटीआई फोटो)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां संयुक्त राष्ट्र सतत विकास शिखर सम्मेलन में नियत समय से 13 मिनट ज्यादा लेते हुए अपना संबोधन पूरा किया जिसपर सत्र की अध्यक्षता कर रहे संयुक्त राष्ट्र के एक अधिकारी ने टिप्पणी की कि मोदी की ओर से लिए गए हर अतिरिक्त 60 सेकंड ने 10 करोड़ लोगों का प्रतिनिधित्व किया।

सत्र की अध्यक्षता कर रहे अधिकारी ने महासभा कक्ष में भारतीय नेता का संबोधन समाप्त होने के बाद तालियों की गड़गड़ाहट के बीच कहा, ‘‘ मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद देता हूं। एक अरब 20 करोड़ लोगों का प्रतिनिधित्व कर रहे मोदी को अपना संबोधन पूरा करने के लिए अतिरिक्त 13 मिनट लेने पड़े। इसका अर्थ यह है कि हर 10 करोड़ लोगों के लिए एक मिनट।’’

मोदी ने अपने संबोधन में जलवायु न्याय की ध्यान केंद्रित किया। उन्होंने कहा कि साझे लेकिन विभेदित जिम्मेदारियों का सिद्धांत विश्व के सामूहिक उद्यम का आधार है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 हज भगदड़ में मरने वाले भारतीयों की संख्या 18 पहुंची
2 US: दीपावली पर जारी किए जाएंगे डाक टिकट
3 ISIS है सबसे बड़ी चुनौती: नरेंद्र मोदी
ये पढ़ा क्या?
X