ताज़ा खबर
 

यहां रोजा न रखने वाले मुसलमानों पर होगा एक्शन, सादे कपड़ों और भेष बदलकर नजर रख रहे पुलिसवाले

रोजे के वक्त अगर कोई मुस्लिम भोजन करते हुए पकड़ा गया तो उसे छह महीने की जेल हो सकती है या जुर्माना देना पड़ सकता है।

तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

रमजान के दौरान रोजा रखने से बचने और सार्वजनिक स्थानों पर खाने वाले मुस्लिम मुश्किल में पड़ सकते हैं। ऐसे लोगों की धड़पकड़ के लिए पुलिस टीम का गठन किया गया है। सादा लिबास पहने पुलिस टीम को जगह-जगह तैनात किया गया है ताकि रोजा ना रखने वाले मुस्लिमों को पकड़कर उनके खिलाफ एक्शन लिया जा सके। द फॉक्स न्यूज ने खबर दी है कि ऐसे लोगों के खिलाफ मुस्लिम बहुल देश मलेशिया में सख्त सजा दी जा सकती है। न्यू स्ट्रेट्स टाइम्स की खबर के मुताबिक दो दर्जन से अधिक लॉ एनफोर्समेंट ऑफिसर (LEO) को सादे लिबास में भेष बदलकर कुक और वेटर्स के रूप में तैनात किया गया है ताकि बेरोजेदारों को पकड़ा जा सके। इस्लाम के सबसे पवित्र महीने के दौरान मुस्लिमों को रमजान रखना अर्थात सुबह से शाम तक उपवास पर रहना जरुरी है।

एक अधिकारी ने बताया कि मलेशियाई राज्य जोहर के सेगमत जिले में करीब 200 खाने स्टॉल पर नजर रखी जाएगी। मामले में सेगमत नगर परिषद के अध्यक्ष मोहम्मद मंसी वकीमन ने न्यू स्ट्रेट्स टाइम्स को बताया, ’15 जगहों पर 185 लाइसेंस धारी स्टॉल और फूड आउटलेट हैं। इसमें सेगमत, बंदर पुतरा IOI, सेगमत बारू, जालान सेगमत मौर, तमन यायासन, बुलोह कसप, जेमेनताह, बाटु अनम और बंदर उटमा शामिल हैं।’

अधिकारी के मुताबिक वहां मौजूद लॉ एनफोर्समेंट ऑफिसर छिपकर ऐसे लोगों पर नजर रखेंगे जो रोजे के दौरान भोजन करते हुए नजर आएंगे। उनकी इस गतिविधि पर तुरंत सेगमेट की इस्लामिक धार्मिक परिषद से संपर्क किया जाएगा। मोहम्मद मंसी वकीमन ने बताया, ‘एक बार ऑर्डर मिलने के बाद, अधिकारी गुप्त रूप से भोजन का स्वाद ले रहे व्यक्तियों या समूह पर कब्जा कर लेंगे और इस्लामिक परिषद से संपर्क किया जाएगा।’

अधिकारी के मुताबिक रोजे के वक्त अगर कोई मुस्लिम भोजन करते हुए पकड़ा गया तो उसे छह महीने की जेल हो सकती है या जुर्माना देना पड़ सकता है। हालांकि सरकार के इस फैसले का चौतरफा विरोध हो रहा है। मलेशिया के मुस्लिम महिला अधिकार संगठन ‘सिस्टर्स इन इस्लाम’ ने सरकार के इस कदम को शर्मनाक करार दिया है। संगठन ने कहा, ‘हम सख्ती से मांग करते हैं कि सभी पार्टियां जासूसी के इस शर्मनाक काम को रोकें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X