ताज़ा खबर
 

मदर टेरेसा को संत घोषित करने के मौके पर वैटिकन में होगा बड़ा जश्न, रोम में दिखेगी कोलकाता की झलक

रोमन कैथोलिक नन मदर टेरेसा ने 45 साल गरीबों और बीमार लोगों की सेवा करने में बिताए।
Author कोलकाता | July 17, 2016 18:26 pm
अपना पूरा जीवन गरीबों की सेवा में समर्पित करने वाली मदर टेरेसा को रोमन कैथोलिक संत का दर्जा दिया जायेगा। (फाइल फोटो)

मदर टेरेसा को संत का दर्जा दिए जाने के मौके पर सिंतंबर में जब लाखों लोग वैटिकन सिटी में जुटेंगे तब कोलकाता का एक समूह रोम में फोटो प्रदर्शनी का आयोजन कर आगंतुकों को कोलकाता आने का न्यौता देगा। अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त फोटोग्राफर कौन्तेय सिन्हा और उनका स्वयंसेवकों का दल रोम और वैटिकन सिटी में 11 स्थानों पर प्रदर्शनी लगाएगा। यह उनके दो हफ्ते लंबे ‘दी सेंटहुड प्रोजेक्ट’ नाम के नागरिक आंदोलन का हिस्सा है।

सिन्हा ने पीटीआई-भाषा को बताया, ‘‘मदर कोलकाता की झुग्गियों में काम करती थीं। अगर वे ऐसा कर सकती हैं तो हम ऐसे इलाकों में और गंदी नालियों वाली झुग्गियों में क्यों नहीं जा सकते? हम चाहते हैं कि दुनिया भर के लोग कोलकाता आएं और उस जगह को देखें, जहां मदर ने जीवनभर काम किया है।’’  बीते कई साल से लंदन में रह रहे और कोलकाता में जन्मे सिन्हा ने कहा कि मदर को समारोह में आने वाले लोगों में मुश्किल से एक फीसदी ही कोलकाता के बारे में जानते होंगे जहां रोमन कैथोलिक नन ने 45 साल गरीबों और बीमार लोगों की सेवा करने में बिताए।

उनकी योजना शहर की 50 तस्वीरें क्लिपों के जरिए रस्सी पर टांगने की है। इसे सड़क किनारे प्रदर्शित किया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘‘हमारा इरादा शहर की छवि को बदलने का है। इसलिए हम विक्टोरिया मेमोरियल, हावड़ा ब्रिज या ब्रिटिश वास्तुकला के किसी नमूने की तस्वीर शामिल नहीं कर रहे हैं।’’ प्रदर्शनी में कुमारतोली जैसी जगहों की तस्वीरें होंगी जहां दुर्गा और काली मां की प्रतिमाएं बनाई जाती हैं, फूल बाजार, सोनागाची (एशिया का सबसे बड़ा रैड लाइट इलाका) समेत उन गलियों और झुग्गियों की तस्वीरें होंगी जहां मदर टेरेसा और उनकी मिशिनरी ने काम किया था।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.