ताज़ा खबर
 

बातचीत दोबारा शुरू करने को राजी हुए भारत-पाक, सुषमा ने नवाज से कहा- परिपक्‍वता दिखाने का वक्‍त आया

सुषमा इस वक्‍त हार्ट ऑफ एशिया कॉन्‍फ्रेंस में हिस्‍सा लेने के लिए इस्‍लामाबाद में हैं।

Author इस्‍लामाबाद | December 9, 2015 9:51 PM
नवाज शरीफ के साथ सुषमा स्‍वराज (PHOTO: ANI/TWITTER)

भारत और पाकिस्तान ने अपने संबंधों में आए गतिरोध को खत्म करते हुए बुधवार को ऐलान किया कि उन्होंने हर अहम मामले पर बातचीत करने का फैसला किया है। इसमें शांति एवं सुरक्षा तथा जम्मू-कश्मीर का मुद्दा भी शामिल होगा। पेरिस में 10 दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके पाक पीएम नवाज शरीफ के बीच मुलाकात के बाद से दोनों देशों के बीच कई सकारात्मक घटनाक्रम देखने को मिले। बुधवार को यह घोषणा की गई कि दोनों देशों के विदेश सचिव बातचीत के तौर-तरीकों और कार्यक्रम पर फैसला करने के लिए मुलाकात करेंगे।  बता दें कि सुषमा इस वक्‍त हार्ट ऑफ एशिया कॉन्‍फ्रेंस में हिस्‍सा लेने के लिए इस्‍लामाबाद में ही हैं। किसी मंत्री के तौर पर सुषमा से पहले 2012 में तत्‍कालीन विदेश मंत्री एस एम कृष्‍णा पाकिस्‍तान जा चुके हैं। सुषमा ने पाक पीएम नवाज शरीफ से भी मुलाकात की। इस मुलाकात को दोनों देशों के बीच रिश्‍ते बेहतर करने की पहल के तौर पर देखा जा रहा है। मीटिंग के दौरान विदेश सचिव एस जयशंकर और नवाज शरीफ के विदेशी मामलों के सलाहकार सरताज अजीज भी मौजूद थे। मुलाकात पर विदेश मंत्री ने कहा, ‘‘यही वक्त है, जब हमें एक-दूसरे के साथ काम करने को लेकर परिपक्वता और आत्मविश्वास दर्शाना चाहिए तथा क्षेत्रीय व्यापार एवं सहयोग को मजबूत बनाना चाहिए। पूरी दुनिया बदलाव का इंतजार कर रही है और उसके पक्ष में है। उन्हें निराश ना करें। अपनी तरफ से, भारत सहयोग को उस गति से आगे बढ़ाने को तैयार है, जिसमें पाकिस्तान को सहूलियत हो।’’

मोदी जाएंगे पाकिस्‍तान: विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज ने इस्‍लामाबाद में बुधवार को बताया कि पीएम नरेंद्र अगले साल पाकिस्‍तान जाएंगे। पीएम यहां साउथ एशियन असोसिएशन फॉर रीजन कॉपरेशन (SAARC) सम्‍मलेन में हिस्‍सा लेंगे। जनवरी 2004 में पीएम अटल बिहारी वाजपेयी के बाद यह किसी भारतीय पीएम का पहला पाक दौरा होगा। वाजपेयी भी यहां सार्क सम्‍मेलन में शरीक होने गए थे। जियो टीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, सुषमा स्‍वराज ने बताया कि दौरे पर वे भी पीएम के साथ होंगी।

जुलाई में रूस के उफा में पाक पीएम नवाज शरीफ ने मोदी को सार्क सम्‍मेलन के लिए पाकिस्‍तान आने का न्‍योता दिया था। भारत ने उनका यह न्‍योता कबूल भी किया था। उफा मीटिंग के बाद दोनों ही पीएम ने अपने विदेश सचिवों को बातचीत की प्रक्रिया शुरू करने का निर्देश दिया। इसके बाद, अपने नेशनल सिक्‍युरिटी एडवाइजर्स को भी मिलने को कहा। अजीत डोभाल और पाक एनएसए सरताज अजीज के बीच अगस्‍त में मुलाकात तय भी हुई, लेकिन आखिरी वक्‍त में इस मीटिंग को रद्द करना पड़ा। मीटिंग रद्द करने की वजह पाक हाई कमिश्‍नर की ओर से अलगाववादी हुर्रियत नेताओं से मुला‍कात करने की जिद थी। हालांकि, दोनों देशों के पीएम एक बार फिर पेरिस में हुए क्‍लाइमेट समिट में मिले। दोनों बेहद गर्मजोशी से मिलते और बातचीत करते दिखे। इसके बाद, 6 दिसंबर को दोनों देशों के एनएसए अजीत डोभाल और नासिर खान जांजुआ बैंकॉक में मिले। इस दौरान दोनों देशों के विदेश सचिव एस जयशंकर और एजाज अहमद चौधरी भी मौजूद थे। बाद में एक संयुक्‍त बयान जारी करके कहा गया कि दोनों देशों के बीच आगे रचनात्‍मक सहयोग बढ़ाने पर चर्चा हुई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App