ताज़ा खबर
 

शोध-अनुसंधान: हमारे पेट में जगह बनाने लगा प्लास्टिक

इस शोध में ब्रिटेन, फिनलैंड, इटली, नीदरलैंड, पोलैंड, रूस और आस्ट्रिया के आठ शाकाहारी और मांसाहारी लोगों को शामिल किया गया। सभी के शरीर से नौ विभिन्न प्रकार के प्लास्टिक के कण मिले। उन्हें एक हफ्ते तक अपनी ‘भोजन डायरी’ तैयार करने को कहा गया। उसके बाद उनके शरीर की जांच की गई। उन सभी के मल की जांच की गई, जिसमें प्लास्टिक के कण मिले।

Author December 4, 2018 6:51 AM
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। (फोटो सोर्स- pixabay)

यूरोप और एशिया के लोग भोजन के साथ प्लास्टिक भी खा रहे हैं। प्लास्टिक कचरा हमारी भोजन शृंखला में शामिल होने लगा है। दो अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं के शोध में यह तथ्य सामने आया है। हालांकि, वैज्ञानिक समुदाय दोनों शोधों को लेकर फिलहाल किसी नतीजे पर नहीं पहुंचा है। विभिन्न जगहों पर आगे का शोध शुरू हो गया है। पर्यावरणविद् अरसे से चेताते रहे हैं कि प्लास्टिक का कचरा हमारी भोजन शृंखला में शामिल हो सकता है। दो संस्थाओं में शोध कर रहे वैज्ञानिकों ने इंसानी मल में माइक्रोप्लास्टिक के कण मौजूद पाए। फिलहाल, सेहत पर असर के बारे में भी आगे की शोध शुरू हो गया है। विएना से जारी खबर ने दुनिया भर के वैज्ञानिकों और आहार विशेषज्ञों के बीच बहस शुरू कर दी है। ‘मेडिकल यूनिवर्सिटी आॅफ विएना’ और ‘एनवायरमेंट एजंसी आॅफ आस्ट्रिया’ के शोधकर्ताओं ने यूरोप और एशिया के विभिन्न हिस्सों से आठ लोगों को चुना।

इस शोध में ब्रिटेन, फिनलैंड, इटली, नीदरलैंड, पोलैंड, रूस और आस्ट्रिया के आठ शाकाहारी और मांसाहारी लोगों को शामिल किया गया। सभी के शरीर से नौ विभिन्न प्रकार के प्लास्टिक के कण मिले। उन्हें एक हफ्ते तक अपनी ‘भोजन डायरी’ तैयार करने को कहा गया। उसके बाद उनके शरीर की जांच की गई। उन सभी के मल की जांच की गई, जिसमें प्लास्टिक के कण मिले। पता चला कि नौ तरह की प्लास्टिक के कण खाने-पीने व अन्य तरीकों से इंसान के पेट में पहुंच रहे हैं। इनमें से कुछ टुकड़े मल के जरिए शरीर से बाहर निकल जाते हैं, लेकिन कई कण शरीर में ही रह जाते हैं और रक्त में मिलकर प्रवाहित होने लगते हैं। शोध में शामिल कुछ लोगों के पेट से इंसानी बाल की मोटाई से तीन गुणा छोटे कण मिले हैं, जो धूल और सिंथेटिक कपड़ों के जरिए सांस लेने पर शरीर में पहुंच रहे हैं।

शोध टीम के प्रमुख डॉक्टर फिलिप श्वाबल के मुताबिक, नतीजों ने मानव स्वास्थ्य को लेकर नई चिंताओं को जन्म दिया है। माइक्रोप्लास्टिक के कण शरीर में रह जाते हैं और रक्त के साथ प्रवाहित होने लगते हैं। ये लीवर तक पहुंच सकते हैं। आंतों और पेट की बीमारी से पीड़ित मरीजों के लिए इस तरह की स्थितियां खतरनाक मानी जाती हैं। डॉक्टर फिलिप श्वाबल के मुताबिक, ‘हमने प्लास्टिक खतरे को लेकर पहली बार सबूत जुटाया है।’ शोधकर्ताओं के मुताबिक, प्लास्टिक की पानी की बोतल, खाने में प्लास्टिक के बर्तनों का इस्तेमाल, खाना रखने के डिब्बे, डिब्बा बंद खाद्य पदार्थ और मछलियों के जरिए प्लास्टिक कण पेट में पहुंच रहे हैं।

धूल और सिंथेटिक कपड़ों से भी प्लास्टिक फायबर सांस लेने पर इंसान के शरीर में पहुंच जाता है। नॉर्वे की यूनिवर्सिटी आॅफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के बॉयोलॉजिस्ट मार्टिन वैगनर मानते हैं कि अभी जो शोध आए हैं, जो लघु स्तर के और प्रतिनिधिमूलक हैं। उनसे किसी नतीजे पर पहुंचना ठीक नहीं। अभी इसमें और शोध की जरूरत है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App