ताज़ा खबर
 

कुख्यात अल चापो की पत्नी अरेस्ट, पिता की वजह से आ गया था ड्रग की दुनिया में, ऐसी है तस्कर की काली कहानी

बसे बड़े ड्रग्स तस्कर की पत्नी पर आरोप है कि पति के जेल में जाने के बाद वो ड्रग्स के इस पूरे कारोबार को संभालती है।

drug, drug case, al chapoमहिला पर अपने पति को ड्रग्स रैकेट में मदद करने का आरोप है। फोटो सोर्स- फेसबुक, @Emma Coronel

मैक्सिको में ड्रग्स के सबसे बड़े कारोबारीजोआक्विन ‘अल चापो’ की पत्नी Emma Coronel Aispuro को गिरफ्तार कर लिया गया है। 31 साल की Emma Coronel Aispuro को नॉर्थ Virginia के Dulles International Airport के पास से पकड़ा गया है। सबसे बड़े ड्रग्स तस्कर की पत्नी पर आरोप है कि पति के जेल में जाने के बाद वो ड्रग्स के इस पूरे कारोबार को संभालती है। Coronel पर आरोप है कि वो अमेरिका में कोकिन, हेरोईन और अन्य नशीले पदार्थों की तस्करी में शामिल है। वॉशिंग्टन के फेडरल कोर्ट में उसपर अब ट्रायल चलेगा।

इस महिला पर जो चार्ज लगाए गए हैं उसमें इस बात का भी जिक्र है कि इसने मैक्सिको के जेल से अपने पति को भगाने में मदद की थी। यह घटना साल 20115 की थी। इसके अलावा साल 2016 में भी इसने जेल ब्रेक में भूमिका निभाई थी। खास बात यह है कि Emma Coronel Aispuro मैक्सिको में वांटेड नहीं थी। कहा जा रहा है कि इसकी गिरफ्तारी में यू.एस ने अहम भूमिका निभाई है।

जेल में बंद है अल-चापो:

आपको बता दें कि Joaquín “El Chapo” Guzmán अभी कोलाराडो में आजीवन कारावास की सजा काट रहा है। बता दें कि साल 2017 में कोकीन, हेरोइन और अन्य ड्रग्स की तस्करी के आरोप में अल चापो को मेक्सिको से अमेरिका प्रत्यर्पित किया गया था। उस वक्त उसके एक करीबी सिफयुएंटिस नाम के व्यक्ति ने खुलासा किया था कि अल चापो ने कई नाबालिग लड़कियों का यौन शोषण भी किया है।

कहा जाता है कि सिनालोआ में गरीबी में बचपन गुजारने वाले अल चापो को अपने पिता के हाथों शारीरिक प्रताड़ता झेलनी पड़ी थी और पिता की वजह से ही अल चापो ड्रग्‍स की तस्‍करी के धंधे में आया था। मात्र 5 फुट 6 इंच लंबा होने की वजह से ही उसे अल चापो कहा जाने लगा। उसका पूरा नाम जोकिन अल चापो गजमन है। उसका जन्‍म वर्ष 1957 में हुआ था।

गांजा उगाने में पिता की मदद करता था:

बचपन में अल चापो गांजा उगाने में अपने पिता की मदद करने लगा। इसके बाद अल चापो ने मैक्सिको के उभरते ड्रग लॉर्ड हेक्‍टर लुइस पाल्‍मा सालाजार के साथ काम करना शुरू किया और यहीं से उसकी किस्‍मत बदल गई। उसने सिनालोवा से ड्रग्‍स को अमेरिका भेजने के लिए रास्‍ते बनाने में सालाजार की मदद की।

वर्ष 1988 में अल चापो ने अपना खुद का कार्टेल बनाया और फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा। बाद में वह सिनालोआ कार्टेल का चीफ बना जिसके बारे में कहा जाता है कि यह संगठन अमेरिका में सबसे ज्‍यादा मादक पदार्थों जैसे कोकिन, गांजा, हेरोइन आदि की तस्‍करी करता है।

Next Stories
1 ऐसी दिखती है मंगल की लाल धरती, NASA ने जारी किया पहला ऑडियो और लैंडिंग VIDEO
2 देमचोक-देपसांग के सवाल कितने अहम
3 रिपब्लिक ऑफ कांगो में यूएन के काफिले पर हमला, इतालवी राजदूत की मौत, सैन्य पुलिसकर्मी भी मारा गया
IND vs ENG Live
X