ताज़ा खबर
 

POK के लोगों का पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन और भारत की सराहना

अब तक POK यानी पाक अधिकृत कश्मीर वाले हिस्से में रह रहे लोगों को भारत के खिलाफ प्रदर्शन करते देखा जाता रहा है...

Author नई दिल्ली | September 30, 2015 12:10 PM
POK के लोगों का पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन और भारत की सराहना (pic-PIT)

अब तक POK यानी पाक अधिकृत कश्मीर वाले हिस्से में रह रहे लोगों को भारत के खिलाफ प्रदर्शन करते देखा जाता रहा है लेकिन पिछले कई दिनों से वे लोग पाकिस्तान के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

हाल ही एक समाचार चैनल के वीडियो में दिखाया गया है, जिसमें कुछ पीओके के लोग पाकिस्तान सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

प्रदर्शनकारी लोग पाकिस्तान से आजादी की मांग कर रहे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक लोग इलाके में विकास न होने से नाराज हैं। दरअसल, इन लोगों का कहना है कि पीओके में उन्हें नौकरी एवं बुनियादी सुविधाओं से वंचित रखा जा रहा है।

उन्हें उनके अधिकार नहीं मिल रहे हैं, जिसके चलते वे अब स्वतंत्र होना चाहते हैं। पाकिस्तान सरकार के खिलाफ ये विरोध-प्रदर्शन कथित रूप से मुजफ्फराबाद, गिलगिट, कोटली सहित पीओके के अन्य इलाकों में हुए हैं।

इस वीडियो में लोग कहते हुए पाए गए हैं कि उनके मानवाधिकारों का खुला उल्लंघन हुआ है और महिलाओं के साथ ज्यादती की गई है। युवक यह भी कहते हुए पाए गए हैं कि जो जिहाद में शामिल नहीं होते उसे पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई उठा ले जाती है।

प्रदर्शनकारियों का कहना है कि उन पर बल प्रयोग करने का पाकिस्तान के पास कोई अधिकार नहीं है। वीडियो में यह साफ है कि पीओके में पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन उग्र हो गया है और पाकिस्तानी सुरक्षा बल इसे क्रूरता पूर्वक दबा रहे हैं।

पीओके निवासी यह भी कहते हुए पाए गए हैं कि पाकिस्तान से बेहतर देश भारत है। रिपोर्ट में कहा गया है कि ये विरोध-प्रदर्शन अचानक नहीं हो रहे हैं। प्रदर्शनों में भारी संख्या में लोग शामिल हुए हैं। इन प्रदर्शनों को दबाने के लिए इलाके में भारी संख्या में सेना और पुलिस मौजूद है।

ऐसे में साफ तौर समझा जा सकता है कि पीओके के लोग अब भारत आना चाहते हैं। गौरतलब है कि कुछ पहले भी पीओके के लोगों ने भारत में आने की गुहार लगाई थी और कश्मीर में बाढ़ के हालातों में भारतीय जवानों की सहायता को भी सराहा था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App