ताज़ा खबर
 

डोनाल्ड ट्रंप के ऑर्डर से परेशान मार्क जुकरबर्ग, फेसबुक पर लिखा – यूएस के बॉर्डर खुले रखने चाहिए

फेसबुक के CEO मार्क जकरबर्ग ने अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के लिए फेसबुक पर एक मैसेज लिखा है।

मार्क जकरबर्ग और डोनाल्ड ट्रंप।

फेसबुक के CEO मार्क जकरबर्ग ने अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के लिए फेसबुक पर एक मैसेज लिखा है। शुक्रवार (27 जनवरी) को लिखे गए उस पोस्ट में जुकरबर्ग ने ट्रंप से निवेदन किया है कि वह शर्णार्थियों के लिए अमेरिका के दरवाजे बंद ना करें। जुकरबर्ग ने यह भी लिखा है कि इस्लामी चरमपंथियों को ट्रंप अमेरिका से बाहर ना करें। माना जा रहा है अमेरिका जिनकी संख्या 10 लाख के भी पार होगी। जकरबर्ग ने डोनाल्ड ट्रंप के नाम संदेश लिखते हुए बताया कि उनके पूर्वज जर्मनी, ऑस्ट्रिया और पॉलैंड से थे और उनकी पत्नी प्रिसेला के दादा-परदादा चीन और वयतनाम के रिफ्यूजी थे।

जुकरबर्ग ने लिखा कि बाकी लोगों की तरह ट्रंप के ऑर्डर से वह भी परेशान हैं। उन्होंने आगे लिखा कि देश को सुरक्षित करने के लिए उन लोगों पर ही फोकस करना चाहिए जिनसे देश को खतरा है। यह भी कहा कि अमेरिका को रिफ्यूजी लोगों के लिए दरवाजे खुले रखने चाहिए।

क्यों है चिंता : दरअसल जुकरबर्ग के अमेरिका वाले दफ्तर में काम करने वाले ज्यादातर इंजीनियर अमेरिका से बाहर के हैं। ऐसे में उनकी कंपनी के लिए भी मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

दरअसल अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शनिवार (27 जनवरी) को एक ऐसे शासकीय आदेश पर हस्ताक्षर किए हैं। उसमें शरणार्थियों के प्रवाह को सीमित करने के लिए और ‘‘चरमपंथी इस्लामी आतंकियों को अमेरिका से बाहर रखने के लिए’’ सघन जांच के नए नियम तय करने की बात कही गई है।

हस्ताक्षर करने के बाद ट्रंप ने कहा था, ‘‘मैं चरमपंथी इस्लामी आतंकियों को अमेरिका से बाहर रखने के लिए सघन जांच के नए नियम स्थापित कर रहा हूं। हम उन्हें यहां देखना नहीं चाहते।’’

इस वक्त की बाकी ताजा खबरों के लिए क्लिक करें 

देखिए संबंधित वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App