ताज़ा खबर
 

रात में महिला सवारी नहीं बैठा सकेंगे पुरुष ड्राइवर, रेप की घटनाओं से तंग चीन में लगी रोक

बलात्कार के मामले सामने आने के बाद स्थानीय सरकार ने शुरुआत में चीन की कैब सर्विस देने वाली कंपनी Didi की सेवाएं ही रोक दी थी। जिसे बाद में धीरे-धीरे फिर से शुरु किया गया। हालांकि मध्य रात्रि से लेकर सुबह के 6 बजे तक Didi की सेवाएं अभी भी बंद हैं।

चीन में पुरुष कैब ड्राइवर नहीं बिठा सकेंगे महिला यात्री। (file photo)

चीन में बढ़ती बलात्कार की घटनाओं के बाद वहां की सरकार ने एक आदेश जारी किया है, जिसके तहत चीन की राजधानी बीजिंग में पुरुष ड्राइवर कार-पूल सर्विस के दौरान महिला यात्रियों को रात 10 बजे के बाद अपनी कैब में नहीं बिठा सकेंगे। बता दें कि हाल ही में कैब में महिलाओं के साथ बलात्कार की 2 घटनाएं सामने आयीं थी, जिसके बाद सरकार ने यह आदेश जारी किया है। गौरतलब है कि बीजिंग में महिला ड्राइवरों की तादाद काफी ज्यादा है, जिस कारण चीन सरकार का नया आदेश लागू होना संभव है।

बता दें कि बलात्कार के मामले सामने आने के बाद स्थानीय सरकार ने शुरुआत में चीन की कैब सर्विस देने वाली कंपनी Didi की सेवाएं ही रोक दी थी। जिसे बाद में धीरे-धीरे फिर से शुरु किया गया। हालांकि मध्य रात्रि से लेकर सुबह के 6 बजे तक Didi की सेवाएं अभी भी बंद हैं। वहीं और अधिक सावधानी बरतने के लिए नए आदेश के तहत अब पुरुष ड्राइवरों को महिला सवारियों को कैब में बिठाने पर ही रोक लगा दी गई है। कुछ समय कैब सर्विस कंपनी Didi उस वक्त लोगों की आलोचनाओं का शिकार हुई थी, जब उसने एक ऑनलाइन प्रमोशन शुरु किया था, जिसमें कैब के यात्रियों से महिला यात्रियों को रैंक देने को कहा गया था।

उल्लेखनीय है कि बीते दिनों चीन की राजधानी बीजिंग में 21 वर्षीय फ्लाइट अटेंडेंट के साथ एक टैक्सी ड्राइवर ने बलात्कार करने के बाद उसकी हत्या कर दी थी। बताया जा रहा है कि आरोपी अपने पिता की कैब और उनके ही अकाउंट का इस्तेमाल कर रहा था। ऐसे ही एक अन्य मामले में एक कैब ड्राइवर ने महिला यात्री के साथ उस वक्त बलात्कार किया, जब वह बीजिंग के नजदीक स्थित एक गांव कैब से जा रही थी। फिलहाल कैब सर्विस कंपनी Didi ने अपनी कैब में पैनिक बटन की सुविधा दी है, जिसकी मदद से आपात स्थिति में मदद मांगी जा सकेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App