ताज़ा खबर
 

मालदीव में 30 दिनों के लिए आपातकाल

मालदीव के राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन ने देश की सुरक्षा को खतरा बताते हुए बुधवार को 30 दिनों के लिए आपातकाल की घोषणा की और सुरक्षा बलों को अपार शक्तियां दे दीं..

Author माले | November 5, 2015 1:47 AM
(एपी फाइल फोटो)

मालदीव के राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन ने देश की सुरक्षा को खतरा बताते हुए बुधवार को 30 दिनों के लिए आपातकाल की घोषणा की और सुरक्षा बलों को अपार शक्तियां दे दीं। साथ ही अपने आवास के नजदीक हथियार और विस्फोटक पाए जाने के बाद उन्होंने आवाजाही और एकत्र होने की स्वतंत्रता के अधिकार पर भी अस्थायी रूप से रोक लगा दी।

मुख्य विपक्षी दल मालदीवियन डेमोक्रेटिक पार्टी (एमडीपी) के प्रदर्शन की योजना से दो दिन पहले आपातकाल की घोषणा की गई है। प्रदर्शन का उद्देश्य अपने नेता और पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद को जेल से रिहा करने के लिए यामीन पर दबाव बनाना था। नशीद को आतंकवाद निरोधक कानून के तहत जेल में डाला गया है जिसकी काफी आलोचना हुई है।

राष्ट्रपति की तरफ से जारी बयान में कहा गया है, ‘‘यामीन ने बुधवार दोपहर 12 बजे से 30 दिनों के लिए आपातकाल की घोषणा की है। आपातकाल की घोषणा इसलिए की गई कि मालदीव राष्ट्रीय सुरक्षा बल और मालदीव की पुलिस ने मालदीव में दो अलग-अलग स्थानों पर भारी संख्या में हथियारों का पता लगाया है।’’

इसमें कहा गया है, ‘‘और सुरक्षा बलों का मानना है कि कुछ हथियार और गोला…बारूद अभी गायब हैं और सुरक्षा बलों को सूचना है कि कुछ लोग इन हथियारों का इस्तेमाल करने की योजना बना रहे हैं जिससे लोगों और राष्ट्रीय सुरक्षा को गंभीर खतरा है।’’

इसमें कहा गया है कि आपातकाल के तहत जो कदम उठाए गए हैं उनमें इकट्ठा होने, आवाजाही और निजता तथा हड़ताल के अधिकार को अस्थायी तौर पर रोकना शामिल है। बयान में कहा गया है, ‘‘आपातकाल में संविधान के तहत प्राप्त मूल अधिकारों या दूसरे कानूनों पर प्रतिबंध नहीं है जिसमें अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, मीडिया की स्वतंत्रता, निष्पक्ष और पारदर्शी सुनवाई, गिरफ्तारी या हिरासत का अधिकार, आरोपियों के अधिकार शामिल हैं।’’

इसमें कहा गया है, ‘‘स्वीकारोक्ति और अवैध साक्ष्य के प्रयोग पर प्रतिबंध, कानूनी वकील का सहयोग, गलत व्यवहार या उत्पीड़न पर रोक, गिरफ्तार या हिरासत में लिए गए व्यक्ति से मानवीय व्यवहार आदि इसमें शामिल नहीं हैं।’’

आपातकाल पर प्रतिक्रिया जताते हुए मालदीव के विदेश मंत्री दुनया मॉमून ने कहा, ‘‘पिछले हफ्ते राष्ट्रीय सुरक्षा को उत्पन्न हुए कई खतरे को देखते हुए सरकार ने आज ये एहतियाती कदम उठाए हैं। हवाई अड्डे, परिवहन केंद्र और पर्यटक रिसॉर्ट पूरी तरह सुरक्षित रहे और हमें अन्य कोई साक्ष्य नहीं मिले हैं।’’

मॉमून ने कहा, ‘‘हमारे रिसॉर्ट और प्रायद्वीपों की सुरक्षा खतरे में नहीं है और हमें ऐसा कोई साक्ष्य नहीं मिला है। मालदीव अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों के लिए सुरक्षित है।’’

उपराष्ट्रपति अहमद अदीब को 28 सितम्बर को राष्ट्रपति के पोत पर विस्फोटक रखने के सिलसिले में 25 अक्तूबर को गिरफ्तार किये जाने के बाद आपातकाल की घोषणा की गई है। अधिकारियों का कहना है कि हत्या के प्रयास के लिए राष्ट्रपति के पोत पर विस्फोटक लगाए गए थे।

बहरहाल अमेरिका में एफबीआई ने विस्फोट की जांच की और कहा कि कहीं भी साक्ष्य नहीं मिले कि बम से विस्फोट हुए थे। बाद में मालदीव के एक वरिष्ठ राजनयिक और मालदीव के चार अन्य नागरिकों को भी राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन की हत्या के प्रयास में गिरफ्तार किया गया जिन्हें मलेशिया से प्रत्यर्पित कर यहां लाया गया था।

लगातार ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट्स, एनालिसिस, ब्‍लॉग पढ़ने के लिए आप हमारा फेसबुक पेज लाइक करेंगूगल प्लस पर हमसे जुड़ें  और ट्विटर पर भी हमें फॉलो करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App