ताज़ा खबर
 

नील नदी किनारे 9 महीने पैदल चले लेविसन वुड, 120 डिग्री तापमान और बारूदी सुरंगों से होते हुए तय किया 4250 मील का सफर

लेविसन वुड ने कई हैरान कर देने वाले चीजों का पता लगाने के लिए उद्गम से लेकर समुद्र तक नील नदी की यात्रा की।

Author Published on: February 16, 2017 5:28 PM
नील नदी के किनारे लेविसन वुड ।

ब्रिटिश सेना के पूर्व पैराट्रूपर लेविसन वुड ने दुनिया की सबसे लंबी नदी नील के किनारे 4250 मील का सफर पैदल तय किया है। वुड को इसमें 9 महीने का समय लगा है। नील इस ग्रह की सबसे लंबी नदी है और यह छह अफ्रीकी देशों (रवांडा, तंजानिया, युगांडा, दक्षिणी सूडान, सूडान गणराज्य और मिस्र) के जीवन का स्रोत है। नील नदी को सभ्यता के उद्गम स्थल के तौर पर भी जाना जाता है। नदी के किनारे काफी खतरों से भरे हुए हैं।

लेविसन वुड ने कई हैरान कर देने वाले चीजों का पता लगाने के लिए उद्गम से लेकर समुद्र तक नील नदी की यात्रा की। इसके साथ ही वुड ऐसी खतरनाक यात्रा करने वाले पहले व्यक्ति बन गए हैं। दावा किया गया है कि अब तक किसी ने भी ऐसी पैदल यात्रा नहीं की थी। वुड ने यह यात्रा डिस्कवरी चैनल की नई सीरीज ‘वॉकिंग द नील के साथ’ के लिए की है। इस सीरीज का प्रसारण 22 फरवरी से डिस्कवरी चैनल पर किया जाएगा।

वुड नदी के किनारे 4,250 मील तक चलते हुए कई खतरनाक और सुंदर देशों के होकर गुजरे। दावा किया गया है कि इस दौरान उन्होंने करीब 70 लाख से ज्यादा कदम का सफर तय किया है। यह सफर वुड के लिए आसान नहीं रहा, उनके दोस्त और पत्रकार मैट पावर इस सफर में उनके साथ थे। लेकिन अचानक उनकी मौत हो गई। वुड को इस दौरान बारूदी सुरंगों से खुद को बचाते हुए और 120-डिग्री तापमान वाले चिलचिताले रेगिस्तान से गुजरना पड़ा और साथ ही दक्षिण सूडान के हिंसक गृह-युद्ध से भी खुद को बचाना पड़ा। इसके अलावा, वह सड़क के किनारे लूटरे गिरोहों और विद्रोहियों का शिकार बने और स्थानीय कानून प्रवर्तन की समस्याओं से भी दो-चार होना पड़ा।

शो का ट्रेलर यहां देखें-

उन्होंने अपने सफर की शुरुआत रवांडा गणराज्य से की। नील नदी का उद्गम यहीं पर है। रवांडा से वुड ने उत्तर की ओर तंजानियां, युगांडा, दक्षिणी सुडान, सूडान गणराज्य होते हुए आखिर में मिस्र तक पहुंचने की तैयारी की थी, जहां नील नदी भूमध्यसागर में मिलती है। कभी-कभी उनके साथ एक छोटा-सा क्रू यात्रा करता रहा, वहीं बाकी सफर में उनके साथ केवल एक गाइड और एक कैमरा था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 ‘अमेरिका के आईएस के दखल का फायदा उठाकर भारत में पैर पसार रहा है अलकायदा’
2 आपने शायद ही देखे होंगे विलुप्त हो रहे इन जानवरों के बच्चे
3 पूर्व सीआईए अधिकारी ने पाकिस्तान को बताया विश्व का सबसे खतरनाक देश
ये पढ़ा क्या?
X