अमेरिकी पाबंदियों को किम जोंग का जवाब, 1 माह के भीतर उत्तर कोरिया ने तीसरी बार किया मिसाइल परीक्षण

उत्तर कोरिया ने आगाह किया कि अमेरिका टकराव वाला रुख बरकरार रखता है तो वह और कदम उठाएगा। उधर, बाइडन प्रशासन का कहना है कि वह संयुक्त राष्ट्र से नए प्रतिबंधों की मांग करेगा।

North Korea, Kim Jong Un, US sanctions, Conducted missile test, Third missile test, Test in1 month
उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन(फोटो सोर्स: AP/PTI)

अमेरिका के बाइडन प्रशासन ने बुधवार को उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षण के जवाब में उसके पांच लोगों पर प्रतिबंध लगाया। लेकिन तानाशाह किम जोंग उन ने प्रतिबंधों की खिल्ली उड़ा तीसरा मिसाइल का परीक्षण कर डाला। उत्तर कोरिया ने आगाह किया कि अमेरिका टकराव वाला रुख बरकरार रखता है तो वह और कदम उठाएगा। उधर, बाइडन प्रशासन का कहना है कि वह संयुक्त राष्ट्र से नए प्रतिबंधों की मांग करेगा।

अमेरिका ने ये प्रतिबंध उत्तर कोरिया के मिसाइल कार्यक्रमों के लिए उपकरण और प्रौद्योगिकी प्राप्त करने में भूमिका को लेकर लगाए थे। उधर, मिसाइल दागे जाने के कुछ घंटे पहले उत्तर कोरिया ने मिसाइल परीक्षणों को लेकर बाइडन प्रशासन की तरफ से लगाई गईं नई पाबंदियों की निंदा की। उत्तर कोरिया के आधिकारिक कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी (KCN) ने विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता के हवाले से हाइपरसोनिक मिसाइल के परीक्षण को सही ठहराकर इसे आत्मरक्षार्थ अभ्यास बताया। इससे पहले उत्तर कोरिया ने मंगलवार को कहा था कि परीक्षण से देश की परमाणु युद्ध से बचाव की क्षमता में इजाफा होगा।

उधर, दक्षिण कोरिया और जापान के अधिकारियों ने कहा कि उत्तर कोरिया ने शुक्रवार को कम से कम एक बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया है। इस महीने यह तीसरी बार है जब उत्तर कोरिया ने मिसाइल परीक्षण किया है। अमेरिका के जो बाइडन प्रशासन ने उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षणों के कारण उस पर नयी पाबंदियां लगाई हैं और समझा जाता है कि यह परीक्षण उन्हीं पाबंदियों के जवाब में किया गया है।

दक्षिण कोरिया के ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ ने बताया कि मिसाइल पूर्व की दिशा में दागी गई। हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि मिसाइल कहां जाकर गिरी। उन्होंने मिसाइल के बारे में विस्तार से कोई और जानकारी नहीं दी। जापानी प्रधानमंत्री के कार्यालय ने भी कहा कि उन्हें उत्तर कोरिया के इस परीक्षण का पता चला और वह निश्चित रूप से एक बैलिस्टिक मिसाइल है।

जापान के तट रक्षक ने एक अलर्ट जारी करते हुए कहा कि एक चीज समुद्र में गिरी थी। तट रक्षकों ने कोरियाई प्रायद्वीप और जापान के साथ-साथ पूर्व चीन सागर और उत्तर प्रशांत के बीच मौजूद जहाजों से आग्रह किया है कि वो स्थिति पर लगातार नजर बनाए रखें।

पढें अंतरराष्ट्रीय समाचार (International News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।