ताज़ा खबर
 

किम जोंग नाम हत्या: गिरफ्तार उत्तर कोरियाई रिहा, मलेशिया ने कहा- सबूतों की कमी थी इसलिए रिहा करना पड़ा

उत्तर कोरियाई को रिहा किए जाने से झुंझलाई पुलिस ने कहा कि व्यक्ति षड़यंत्र में शामिल था लेकिन उसके पास अपनी बात साबित करने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं थे।

Author कुआलालम्पुर | Updated: March 3, 2017 3:39 PM
Kim Jong Nam Death, Malaysia Airport Kim Jong Nam, Ri Jong Chol news, Ri Jong Chol latest News, Kim Jong Nam news, Kim Jong Nam latest news, Malaysia police Northe Koreanउत्तर कोरिया के नेता के सौतेले भाई किम जोंग नाम की हत्या के मामले में गिरफ्तार एकमात्र उत्तर कोरियाई री जोंग चोल (बीच में)। (AP/PTI/3 March, 2017)

उत्तर कोरिया के नेता के सौतेले भाई किम जोंग नाम की हत्या को लेकर प्योंगयांग एवं कुआलालम्पुर के बीच चल रही राजनयिक तनातनी के बीच इस मामले में गिरफ्तार किए गए एकमात्र उत्तर कोरियाई को शुक्रवार (3 मार्च) को रिहा कर दिया गया। उत्तर कोरियाई को रिहा किए जाने से झुंझलाई पुलिस ने कहा कि उसका मानना है कि व्यक्ति षड़यंत्र में शामिल था लेकिन उसके पास अपनी बात साबित करने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं थे। अटॉर्नी जनरल मोहम्मद अपांडी अली ने गुरुवार (2 मार्च) को घोषणा की थी कि री जोंग चोल के खिलाफ आरोप तय करने के लिए अपर्याप्त सबूत हैं और उसे आज (शुक्रवार, 3 मार्च) रिहा कर दिया जाएगा।

इस घोषणा के एक दिन बाद 47 वर्षीय चोल को रिहा कर दिया गया। इसके बाद पुलिस प्रमुख खालिद अबु बकर ने कहा कि उन्हें इस रिहाई पर खेद हो रहा है। उन्होंने किम जोंग नाम के पासपोर्ट में दिए गए नाम का जिक्र करते हुए कहा, ‘हमारा मानना है कि री जोंग चोल ने किम चोल की हत्या में भूमिका निभाई लेकिन दुर्भाग्य से हमारे पास उसके खिलाफ आरोप तय करने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं हैं।’ बकर ने मोबाइल पर भेजे संदेश में कहा, ‘हम सबूतों के अभाव के कारण हताश हैं।’

हालांकि उन्होंने इस बात से इनकार किया कि इस रिहाई का कारण राजनीतिक या राजनयिक दबाव है। उन्होंने कहा कि यह पूरी तरह से जांच से जुड़ा मामला है। बुलेट प्रूफ जैकेट पहने चोल के वाहन के साथ पुलिस की छह कारों का काफिला था और मोटरसाइकिलें भी साथ चल रही थीं। जिस पुलिस थाने में चोल को रखा गया था, वहां से इस काफिले के निकलने पर सड़कों को सील कर दिया गया था। एक पुलिस अधिकारी ने अपनी नाम नहीं बताने की शर्त पर एएफपी को बताया कि चोल को प्रशासनिक राजधानी पुत्राजया में आव्रजन प्राधिकारियों को सौंप दिया गया।

उन्होंने कहा, ‘मुझे नहीं पता कि उसे कब उसके देश भेजा जाएगा क्योंकि कुछ यात्रा दस्तावेजों संबंधी मामलों से निपटा जाना बाकी है।’ चोल की रिहाई से दो दिन पहले एक इंडोनेशियाई और एक वियतनामी महिला पर उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन के सौतेले भाई किम जोंग नाम की घातक नर्व एजेंट की मदद से हत्या करने का आरोप लगाया गया था। इस मामले में एक दूत और एक विमानन कंपनी के कर्मी समेत सात उत्तर कोरियाई लोग वांछित हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘लश्कर जैसे संगठनों पर कार्रवाई करे पाकिस्तान, 600 देवबंदी मदरसों को भी बंद कर देना चाहिए’
2 अमेरिका: अटॉर्नी जनरल ने दिया डोनाल्ड ट्रंप को झटका, ‘रूसी जांच’ से खुद को किया अलग
3 डोनाल्ड ट्रंप विवाद के केंद्र में हैं अमेरिका में रूस के राजदूत सरगेई किसल्याक