ताज़ा खबर
 

नोबेल पुरस्कार विजेता सत्यार्थी: मलाला यूसुफजई मेरी बेटी की तरह है

भारत के बाल अधिकार कार्यकर्ता कैलाश सत्यार्थी और पाकिस्तान की मलाला यूसुफजई समेत 11 हस्तियों को बुधवार को इस साल के नोबेल पुरस्कारों से सम्मानित किया जाएगा। स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम और नॉर्वे की राजधानी ओस्लो में बुधवार को नोबेल विजेताओं को नोबेल पदक, नोबेल डिप्लोमा और उनकी पुरस्कार राशि की पुष्टि करने वाले पत्र […]

Author Updated: December 10, 2014 10:22 AM

भारत के बाल अधिकार कार्यकर्ता कैलाश सत्यार्थी और पाकिस्तान की मलाला यूसुफजई समेत 11 हस्तियों को बुधवार को इस साल के नोबेल पुरस्कारों से सम्मानित किया जाएगा।

स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम और नॉर्वे की राजधानी ओस्लो में बुधवार को नोबेल विजेताओं को नोबेल पदक, नोबेल डिप्लोमा और उनकी पुरस्कार राशि की पुष्टि करने वाले पत्र दिए जाएंगे।

सत्यार्थी (60)और यूसुफजई (17)को ओस्लो में सम्मानित किया जाएगा और दोनों नोबेल शांति पुरस्कार की 11 लाख डॉलर की पुरस्कार राशि साझा करेंगे। दूसरे क्षेत्रों के नोबेल पुरस्कार विजेताओं को स्टॉकहोम में सम्मानित किया जाएगा।

उत्साहित सत्यार्थी ने बताया,‘मैं यह पुरस्कार भारत के बच्चों को समर्पित करना चाहता हूं। यह पुरस्कार उनके लिए है। यह पुरस्कार भारत के लोगों के लिए है।’

नोबेल पुरस्कार विजेता सत्यार्थी ने कहा ‘मलाला यूसुफजई मेरी बेटी की तरह है’।

उन्होंने फास्ट ट्रैक आधार पर बाल अधिकारों के मुद्दे देखने के लिए न्यायपालिका की सराहना की। सत्यार्थी को इस बात की भी उम्मीद है कि सरकार बाल अधिकारों के संरक्षण के लिए और प्रयास करेगी।

उन्होंने कहा, ‘हमारे अधिक से अधिक सांसदों को संसद में यह मुद्दा उठाना चाहिए और हमें भारत में बाल मजदूरी के उन्मूलन के लिए कानूनों की जरूरत है। मुझे उम्मीद है कि सरकार इस दिशा में जल्द से जल्द कुछ करेगी।

साथ ही समाज को भी बाल अधिकारों की एक संस्कृति के निर्माण की दिशा में काम करना चाहिए।’ सत्यार्थी अपनी पत्नी सुमेधा, बेटे, बहू और बेटी के साथ सोमवार को ओस्लो पहुंचे।

Next Stories
1 अमेरिका और चीन के गठजोड़ की चुनौती हमारे लिए भी है
2 भारत को खुश करने के लिए ट्विटर अकाउंट बंद किया: जेयूडी
3 ‘अनुरोध मिला तो कश्मीर मुद्दे के हल में सहयोग को तैयार’
ये पढ़ा क्या?
X