ताज़ा खबर
 

बंधक को छुड़ाने के लिए जापान ने जॉर्डन से मांगी मदद

जापान ने गुरुवार को कहा कि इसकी पूरी संभावना है कि जापान और जॉर्डन के बंधक को मारने की धमकी देने वाले आइएस आतंकियों का ताजा संदेश असली है। मुख्य कैबिनेट सचिव योशिहिदे सुगा ने रिकार्डिंग के बारे में पत्रकारों को बताया कि यह असली लगता है। उन्होंने कहा- हम इसकी पुष्टि करने की प्रक्रिया […]

Author January 30, 2015 9:54 AM
आइएस का नया संदेश असली होने की संभावना ज्यादा (फोटो: एपी)

जापान ने गुरुवार को कहा कि इसकी पूरी संभावना है कि जापान और जॉर्डन के बंधक को मारने की धमकी देने वाले आइएस आतंकियों का ताजा संदेश असली है। मुख्य कैबिनेट सचिव योशिहिदे सुगा ने रिकार्डिंग के बारे में पत्रकारों को बताया कि यह असली लगता है। उन्होंने कहा- हम इसकी पुष्टि करने की प्रक्रिया में हैं लेकिन बहुत ज्यादा संभावना है कि आवाज केंजी गोटो की है।

आइएस के चंगुल से पत्रकार गोटो को बचाने के लिए तोक्यो ने अम्मान से अनुरोध किया है। जापानी समयानुसार तड़के पोस्ट किए गए नए संदेश में आतंकियों ने मांग रखी है कि अम्मान तुर्की सीमा पर ‘सूर्यास्त’ तक महिला जिहादी साजिदा अल-रिश्वी को रिहा कर दे। 2006 में होटल में तिहरे बम विस्फोट में भूमिका के लिए रिश्वी को जार्डन में मौत की सजा मिली थी। विस्फोट में 60 लोग मारे गए थे। इसमें कहा गया है कि बंधकों की अदला बदली तुर्की सीमा पर होनी चाहिए।

सुगा ने बताया कि जापानी प्रधानमंत्री शिंजो अबे ने ‘तुर्की सहित विभिन्न देशों से मदद के लिए कहा है।’

अपने ताजा संदेश में गोटो की आवाज का परोक्ष रूप से इस्तेमाल करते हुए उसकी जान के बदले में रिश्वी को छोड़ने को कहा गया है। ऐसा नहीं होने पर जार्डन के बंधक बनाए गए पायलट माज अल कसासबेह की हत्या करने की धमकी दी है।

आइएस ने जापानी बंधक केंजी गोटो का संदेश जारी करते हुए अलकायदा से संबद्ध एक इराकी की रिहाई की समयसीमा बढ़ा दी है। जार्डन ने अपनी वायु सेना के पायलट को बचाने के लिए इस्लामिक स्टेट से एक कैदी की अदला-बदली की पेशकश की थी। आतंकियों ने गोटो के साथ पायलट को भी मारने की धमकी दी थी।

ट्विटर पर आइएस से संबद्ध अकाउंटों पर जारी रिकार्डिंग की अब तक स्वतंत्र तौर पर पुष्टि नहीं की जा सकी है। बुधवार को पायलट के पिता ने जार्डन के शाह से मुलाकात की थी जिन्होंने उन्हें आश्वस्त किया कि सब कुछ ठीक हो जाएगा। पायलट को लाने के लिए शाह अब्दुल्ला घरेलू दबाव का सामना कर रहे हैं। हालांकि, इस्लामिक स्टेट की मांग को पूरा करना चरमपंथियों से निपटने के शाही रूख के विपरीत होगा।

अल कसासेबाह और गोटो की रिहाई के प्रयास की तुरंत जरूरत है क्योंकि इस्लामिक स्टेट समूह ने दावा किया है कि अलकायदा से संबद्ध कैदी को मुक्त नहीं किया गया तो 24 घंटे के अंदर दोनों बंधकों का कत्ल कर दिया जाएगा।

 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X