ताज़ा खबर
 

खौफनाक आपबीती: भूखा रख पोती को बनाया कंकाल, खाने पर लात मार कराता था उल्‍टी

एक जापानी महिला ने दावा किया है कि उसे अपने दादा की बेरहमी जुल्म की हद तक सहनी पड़ी। इसकी वजह से वह मौत के एकदम करीब पहुंच गई थी। डॉक्टरों का कहना था कि वह मौत से महज 10 मिनट दूर रह गई थी।
डॉक्टरों ने कहा था कि महिला मौत से महज 10 मिनट की दूरी पर रह गई थी। (फोटो सोर्स – ट्विटर)

एक जापानी महिला ने दावा किया है कि उसे अपने दादा की बेरहमी जुल्म की हद तक सहनी पड़ी। इसकी वजह से वह मौत के एकदम करीब पहुंच गई थी। डॉक्टरों का कहना था कि वह मौत से महज 10 मिनट दूर रह गई थी। द सन की खबर के मुताबिक महिला ने अपनी रुह कंपा देने वाली खौफनाक आपबीती सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर के माध्यम से शेयर की है। महिला ने जो तस्वीरें सोशल साइट पर पोस्ट की हैं, उन्हें देखकर यकीन नहीं होता है। तस्वीरें में महिला हड्डियों का ढांचा भर नजर आती है। महिला का दावा है कि उसके दादा के जुल्म की इंतेहा की वजह से किशोरावस्था में उसकी यह हालत हो गई थी। महिला ने सोशल साइट पर बताया कि उसके दादा उसे भूखा रखते थे और जब वह उसे कुछ भी खाते हुए देख लेते थे तो पेट पर तब तक लातें मारते थे जब तक कि उल्टी नहीं हो जाती थी।

महिला का दावा है कि भूख के कारण उसका वजन महज 16.8 किलोग्राम रह गया था। महिला ने बताया कि उसे पुलिस ने नाटकीय तरीके से आजाद कराया था और फौरन अस्पताल ले गई थी, जहां डॉक्टरों ने उसे मरते-मरते बचा लिया। महिला के जुल्मी दादा का उसके बाद क्या हुआ, और जब उसे भयंकर प्रताड़ना के दौर से गुजरना पड़ रहा था तब उसके बाकी रिश्तेदार कहां थे, इस बारे में जानकारी नहीं लगी है। लेकिन 10 वर्ष पहले महिला के साथ हुई ज्यादती की तस्वीरें उसके दादा के जुल्म की कहानी बखूबी चीख-चीखकर बयां कर रही हैं।

महिला का कहना है कि उसने अपनी आपबीती इसलिए शेयर की है ताकि लोगों में कुपोषण से होने वाले खतरों के प्रति जागरूकता आए। ट्विटर पर महिला ने लिखा- ”जिन लोगों के साथ दुर्व्यवहार होता है, यह बात उससे थोड़ी हटके है। अगर आप खाने की किसी बीमारी से ग्रसित हैं तो इससे पहले कि बहुत देर हो जाए, मदद मांगें।” द सन ने महिला की कहानी प्रकाशित करते हुए इन तस्वीरों और उसकी आप बीती की सच्चाई का दावा नहीं किया है। कहा जा रहा है कि महिला ने वाइल्ड कैवेज नाम के यूजर नेम से ट्विटर पर पोस्ट शेयर की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.