ताज़ा खबर
 

पुतिन के साथ संबंधों में गर्मजोशी लाने रूस पहुंचे जापान के पीएम शिंझो आबे

दूसरे विश्वयुद्ध के समय सोवियत संघ के सैनिकों ने प्रशांत कुरिल श्रृंखला में दक्षिणतम द्वीपों पर कब्जा कर लिया था। इस क्षेत्र को जापान में नॉदर्न टेरीटरीज कहा जाता है।
Author व्लादिवोस्तोक | September 2, 2016 12:32 pm
जापानी प्रधानमंत्री शिंझो आबे। (REUTERS/Thomas Mukoya)

जापानी प्रधानमंत्री शिंझो आबे शुक्रवार (2 सितंबर) को रूस के सुदूर पूर्व में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मुलाकात करेंगे। दोनों देशों के प्रमुखों की यह मुलाकात एक ऐसे समय पर हो रही है, जब जापान और रूस अपने पुराने क्षेत्रीय विवाद को निपटाने और व्यापारिक संबंधों को बढ़ावा देने का प्रयास कर रहे हैं। तोक्यो और मास्को के संबंधों में दूसरे विश्वयुद्ध के समाप्त होने के बाद से ही ठंडापन है। उस समय सोवियत संघ के सैनिकों ने प्रशांत कुरिल श्रृंखला में दक्षिणतम द्वीपों पर कब्जा कर लिया था। इस क्षेत्र को जापान में नॉदर्न टेरीटरीज कहा जाता है।

इन तनावों के कारण ये दोनों देश युद्धकालीन दुश्मनियों को औपचारिक रूप से खत्म करने वाली शांति संधि पर हस्ताक्षर नहीं कर सके। इस कारण व्यापार और निवेश संबंधित बाधित रहे। अपने कार्यकाल के दूसरे साल में आबे की रूस की यात्रा एक ऐसे समय पर हो रही है, जब कुछ ही दिन पहले रूस ने घोषणा की कि पुतिन दिसंबर में जापान की यात्रा करेंगे। विशेषज्ञ इन हालिया प्रयासों को अमेरिका के सहयोगी तोक्यो और मास्को के व्यापारिक संबंधों के लिए सकारात्मक बदलाव के रूप में देख रहे हैं लेकिन उन्हें इस बात पर संदेह है कि इसका नतीजा क्षेत्रीय विवादों के हल के रूप में सामने आएगा या नहीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.