ताज़ा खबर
 

रिपब्लिक ऑफ कांगो में यूएन के काफिले पर हमला, इतालवी राजदूत की मौत, सैन्य पुलिसकर्मी भी मारा गया

कांगो की राजधानी गोमा में वहां के विदेश मंत्रालय ने राजदूत लुका के मौत की पुष्टि की है। समाचार एजेंसी के मुताबिक यह हमला सुबह 11 बजे के करीब हुआ। हमले के दौरान आतंकियों ने राजदूत की कार पर हमला कर दिया।

congo , italy , ambassadorकांगो गणराज्य में संयुक्त राष्ट्र संघ के शांति बल में शामिल भारतीय जवान (फोटो – रायटर्स)

रिपब्लिक ऑफ़ कांगो में यूएन के काफ़िले पर आतंकवादियों ने हमला कर दिया। इस हमले में इटली के राजदूत लुका अतानासियो की मौत हो गयी। साथ ही इस दल शामिल रहे इटली के एक पुलिस अधिकारी की भी मौत हो गयी। राजदूत लुका यूएन की एक कमिटी में शामिल थे जो तथ्यों की जांच करने के लिए कांगो गए थे।

कांगो की राजधानी गोमा में वहां के विदेश मंत्रालय ने राजदूत लुका के मौत की पुष्टि की है। समाचार एजेंसी के मुताबिक यह हमला सुबह 11 बजे के करीब हुआ। हमले के दौरान आतंकियों ने राजदूत की कार पर हमला कर दिया। जिसमें वह बुरी तरह घायल हो गए। बाद में उन्हें गोमा के पास के एक हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया जहाँ उनकी मौत हो गयी। जानकारी के अनुसार इस हमले में राजदूत और सुरक्षा अधिकारी के अलावा एक और व्यक्ति की मौत हुई है। 

कांगो गणराज्य में राजदूत लुका की मौत पर इटली के विदेश मंत्री ल्युदी मायो ने दुःख जताया है। ल्युदी ने कहा कि कैसे उनके काफिले पर हमला हुआ और कहाँ चुक हुई है। इसकी जांच जरुर की जाएगी। प्राप्त जानकारी के अनुसार लुका अतानासियो साल 2007 से ही कांगो में इटली के राजदूत थे। वे 2003 में ही इटली की विदेश सेवा में शामिल हुए थे। कांगो से पहले उन्होंने मोरक्को और नाइजीरिया में भी इटली का प्रतिनिधित्व किया था।

 यूएन के काफिले पर जिस जगह हमला हुआ है वह कांगो के उत्तरी किवू प्रान्त का हिस्सा और वह विद्रोही समूह एलाइड डेमोक्रेटिक फोर्सेज का गढ़ है। इस गुट में इस्लामिक विद्रोही और युगांडा के राष्ट्रपति का विरोध कर रहे हथियारबंद गुट भी शामिल है। पिछले कुछ समय से यूएन के सुरक्षा बल इस इलाके में शांति के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

आपको बता दूँ कि कांगो गणराज्य में खनिज की भरमार है। इसके बावजूद भी यह देश संयुक्त राष्ट्र के मानव विकास सूचकांक में गरीब देशों की लिस्ट में शामिल है। कांगो गणराज्य में विद्रोही गुटों और दूसरे देशों की सेनाओं की मौजूदगी में हुए हिंसक संघर्ष में करीब 50 लाख लोग मारे जा चुके हैं। कांगों में संयुक्त राष्ट्र संघ का सबसे बड़ा जत्था मौजूद है जिसमें करीब 15000 से ज्यादा लोग शामिल हैं। 

Next Stories
1 कृषि कानूनों के समर्थन में USA में कार रैली, लगे ‘भारत माता की जय’ के नारे
2 शादी के 7 साल बाद पति से अलग होंगी किम कर्दाशियां, कान्ये वेस्ट से तलाक की दी अर्जी
3 LIVE ब्रॉडकास्ट के दौरान रिपोर्टर को तमंचा दिखा कर लूटा, VIDEO वायरल
ये पढ़ा क्या?
X