ताज़ा खबर
 

इस्राइली नौसेना खरीदेगी भारत-इस्राइल की ज्वाइंट मिसाइल रक्षा प्रणाली बराक-8

इस्राइल की नौसेना अपने आर्थिक क्षेत्रों एवं रणनीतिक केंद्रों को विविध खतरों से बचाने के लिए भारत और इस्राइल द्वारा संयुक्त रूप से विकसित की गई बहुप्रयोजक बराक-8 मिसाइल रक्षा प्रणाली की खरीद करेगी।

Author August 16, 2018 5:09 PM
मिसाइल रक्षा प्रणाली बराक-8

इस्राइल की नौसेना अपने आर्थिक क्षेत्रों एवं रणनीतिक केंद्रों को विविध खतरों से बचाने के लिए भारत और इस्राइल द्वारा संयुक्त रूप से विकसित की गई बहुप्रयोजक बराक-8 मिसाइल रक्षा प्रणाली की खरीद करेगी। इस्राइल की एक शीर्ष एअरोस्पेस कंपनी के मुताबिक इस प्रणाली की बिक्री पांच अरब डॉलर के आंकड़े को पार कर गई है। इस मिसाइल प्रणाली को इस्राइल एअरोस्पेस इंडस्ट्रीज (आईएआई), भारत के डीआरडीओ, इस्राइल के एडमिनिस्ट्रेशन फॉर द डेवलपमेंट आॅफ वेपन्स एंड टेक्नोलॉजिकल इंफ्रास्ट्रक्चर, एल्टा सिस्टम्स, राफेल और कुछ अन्य भारतीय रक्षा कंपनियों द्वारा संयुक्त रूप से विकसित किया गया है।

बराक-8 एक हवाई एवं मिसाइल रक्षा प्रणाली है जो अभी अमल में है। इस्राइली नैसेना के साथ-साथ भारतीय नौसेना और वायुसेनाएं भी इसका इस्तेमाल कर रही हैं। आईएआई ने एक बयान में बताया कि इस्राइल की नौसेना सार-6 कोर्वेट्स देश के विशेष आर्थिक क्षेत्र और रणनीतिक केंद्रों की सुरक्षा के लिए इस प्रणाली का इस्तेमाल करेगी जिन्हें समुद्री क्षेत्र में तरह-तरह के खतरों का सामना करना पड़ता है।

कंपनी ने कहा कि बराक-8 नौसैना की परिचालन संबंधी जरूरतों को पूरा करने और उसे भविष्य में आने वाली चुनौतियों से निपटने की दिशा में खरी उतरने में सक्षम है और यह देखने के बाद ही उसका चयन किया गया। आईएआई के सीईओ एवं अध्यक्ष जोसफ वीस ने कहा, ‘‘बराक-8 आईएआई की प्रमुख प्रणालियों में से एक है और बिक्री के लिहाज से आईएआई के लिए एक विकास इंजन है।

नया समझौता बराक-8 के लिए पिछले कई सालों में हुए करारों में एक और अध्याय जोड़ता है जिसकी कुल कीमत अब पांच अरब डॉलर हो गई है जो इस प्रणाली की एक और शानदार उपलब्धि है।’’ छोटी दूरी से लेकर लंबी दूरी के हवाई खतरों से बचाव के लिए डिजाइन की गई यह प्रणाली एक साथ कई लक्ष्यों को दिन-रात और सभी मौसमी स्थितियों में भेदने में सक्षम है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App