ताज़ा खबर
 

क्रिसमस पर इस्लामिक संगठन ने दी धमकी- मुस्लिमों को सांता की पोशाक पहनने पर न करें मजबूर

इस्लामिक डिफेंडर्स फ्रंट ने इसे उन कंपनियों के खिलाफ जारी किया है, जो त्यौहार के दौरान मुस्लिम कर्मचारियों पर सांता क्लाज की पोशाक पहनने का दबाव बनाती हैं।

इस्लामिक संगठन का कहना है कि दुनिया के सबसे बड़े मुस्लिम बहुसंख्यक देश में क्रिसमस पर इस तरह मुस्लिमों पर सांता की टोपी या ड्रेस पहनाने को लेकर दबाव बनाना मानवाधिकार का उल्लंघन है। (सांकेतिक फोटोःFreepik)

क्रिसमस से जुड़ी पोशाक को लेकर इंडोनेशिया में एक इस्लामिक संगठन ने धमकी दी है। इस्लामिक डिफेंडर्स फ्रंट ने इसे उन कंपनियों के खिलाफ जारी किया है, जो त्यौहार के दौरान अपने यहां मुस्लिम कर्मचारियों पर सांता क्लाज की पोशाक पहनने का दबाव बनाती हैं। इस्लामिक संगठन ने इस बाबत कहा है कि वह इसे लेकर एक अभियान चलाएगा। संगठन का दावा है कि दुनिया के सबसे बड़े मुस्लिम बहुसंख्यक देश में मुसलमानों के साथ ऐसा करना मानवाधिकार का उल्लंघन करना है। बता दें कि इंडोनेशिया में कई धर्म के लोग आपसी सौहार्द के साथ रहते हैं, जिसमें क्रिस्चियन, हिंदू, बौध और अन्य परंपराओं को मानने वाले लोग शामिल हैं। वहीं, पुलिस ने इस बारे में लोगों से बाकी धार्मिक आयोजनों की इज्जत करने की अपील की है। साथ ही कहा है कि वह ऐसे किसी प्रकार के अभियान को नहीं चलने देगी।

इस्लामिक डिफेंडर्स फ्रंट ने फतवे को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी है। कहा है कि 2016 में इंडोनिशायाई इस्लामिक क्लर्कियल काउंसिल की ओर से इसे जारी किया गया था। वह इसे इसलिए लागू कराना चाहते हैं, ताकि क्रिसमस पर कंपनियां मुस्लिम कर्मचारियों पर सांता की पोशाक पहनने का दबाव न बना सकें। इस्लामिक संगठन में जकार्ता चैप्टर के अध्यक्ष नोवल बक्मुक्मिन ने कहा कि जो कंपनियां इस चीज को लेकर जिद्दी रवैया अपनाएंगी, वे लोग उनके यहां छापे मारेंगे। उनके साथ उस दौरान पुलिस भी होगी।

उधर, नेशनल पुलिस के चीफ टीटो कार्नावियन ने इस बारे में बताया कि देश में किसी तरह के छापेमारी अभियान नहीं चलने दिए जाएंगे। जनता बाकी धर्मों की इज्जत करनी चाहिए, जो त्यौहार मनाने जा रहे हैं।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App