ताज़ा खबर
 

आइएस की निगाहें अब इंडोनेशिया पर

ऑस्ट्रेलिया ने मंगलवार को यह चेतावनी दी है कि दुनिया की सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी वाले देश में ‘प्रांतीय खिलाफत’ स्थापित करने के सपने के साथ इस्लामिक स्टेट संगठन इंडोनेशिया में अपनी मौजूदगी बढ़ाने के लिए काम कर रहा है..

Author सिडनी | December 23, 2015 2:49 AM
नागपुर एयरपोर्ट पर गिरफ्तार किए गए तीन युवकों में से एक परीक्षा में फेल होने के बाद इस्‍लामिक स्‍टेट में शामिल होने जा रहा था।

ऑस्ट्रेलिया ने मंगलवार को यह चेतावनी दी है कि दुनिया की सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी वाले देश में ‘प्रांतीय खिलाफत’ स्थापित करने के सपने के साथ इस्लामिक स्टेट संगठन इंडोनेशिया में अपनी मौजूदगी बढ़ाने के लिए काम कर रहा है। सोमवार को इंडोनेशियाई और ऑस्ट्रेलियाई मंत्रियों, पुलिस प्रमुखों और सुरक्षा अधिकारियों की बैठक में शिरकत करने वाले अटॉर्नी जनरल जॉर्ज ब्रैंडिस ने कहा कि यह ऑस्ट्रेलिया और पश्चिमी देशों के हितों पर खतरा है। ब्रैंडिस ने ‘द ऑस्ट्रेलियन’ नामक अखबार को बताया, ‘आइएसआइएस की महत्वाकांक्षा इंडोनेशिया में अपनी मौजूदगी और स्तर बढ़ाने की है। फिर चाहे ऐसा सीधे तौर पर किया जाए या फिर प्रतिनिधियों के जरिए।’ उन्होंने कहा, ‘क्या आपने ‘प्रांतीय खिलाफत’ के बारे में सुना है?’ ब्रैंडिस ने कहा, ‘आइएसआइएस ने मध्यपूर्व के बाहर भी खिलाफत स्थापित करने के इरादे की घोषणा की है, जिसके तहत क्षेत्रीय खिलाफत अस्तित्व में आएगी। उसने अपनी इन महत्वाकांक्षाओं के स्थान के रूप में इंडोनेशिया को चिन्हित किया है।’

सुन्नी इस्लाम के चरमपंथी सिद्धांतों पर यकीन रखने वाले इस्लामिक स्टेट ने पहले ही सीरिया और उत्तरी इराक के कई इलाकों में खिलाफत की घोषणा कर दी है। ये वे इलाके हैं, जहां आईएस का कब्जा है। ब्रैंडिस की ये टिप्पणियां इंडोनेशियाई पुलिस द्वारा जकार्ता में एक आत्मघाती हमले की योजना को विफल किए जाने और आइएस से जुड़े चरमपंथियों को गिरफ्तार किए जाने के बाद आई हैं। जावा में चल रही तीन दिवसीय छापेमारी रविवार को समाप्त हुई।

इस छापेमारी में विस्फोटक सामग्रियों का एक जखीरा और आइएस से प्रेरित एक झंडा बरामद किया गया। इस संबंध में नौ लोगों की गिरफ्तारी हुई। इंडोनेशिया के राष्ट्रीय पुलिस प्रमुख ने कहा कि चरमपंथियों ने शॉपिंग मॉलों, पुलिस स्टेशनों और देश के अल्पसंख्यक समूहों को निशाना बनाया था। देश भर में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। सिडनी और जकार्ता में द्विपक्षीय वार्ताओं के बाद आॅस्ट्रेलिया और इंडोनेशिया के वरिष्ठ मंत्री कल आपस में खुफिया जानकारी साझा करने पर सहमत हो गए। यह जानकारी आतंकवाद के वित्तपोषण से भी जुड़ी होगी।

अखबार ने कहा कि ऑस्ट्रेलियाई अधिकारियों का मानना है कि आइएस द्वारा इंडोनेशिया के भीतर खिलाफत स्थापित कर पाने की संभावना बहुत कम ही है लेकिन उन्हें इस बात को लेकर गहरी चिंता है कि वह उस देश में स्थाई तौर पर पैर जमा सकता है। ऐसा होने पर वह इंडोनेशिया के अंदर और बाहर पश्चिमी देशों और आॅस्ट्रेलिया के हितों के खिलाफ हमले कर सकता है। न्याय मंत्री माइकल कीनान ने कहा कि जिहादी समूहों के उदय के कारण दोनों देशों की सुरक्षा में अस्थिरता आई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App