अफगानिस्तान: इस्लामिक स्टेट ने ली मस्जिद में हुए विस्फोट की जिम्मेदारी

आईएस ने बयान जारी कर हत्या की जिम्मेदारी ली और कहा कि उसके दो सदस्यों ने कंधार प्रांत में फातिमिया मस्जिद के प्रवेश द्वार पर तैनात सुरक्षाकर्मियों की गोली मारकर हत्या कर दी। इसके बाद आईएस के एक आतंकवादी ने खुद को बम से उड़ा लिया जबकि दूसरे ने मस्जिद के अंदर भीषण धमाका किया।

दक्षिण अफगानिस्तान के एक प्रांत की शिया मस्जिद में नमाज़ के दौरान हुए आत्मघाती बम विस्फोट में करीब 47 लोगों की मौत हो गई थी। (फोटो: एपी)

आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) ने दक्षिण अफगानिस्तान के एक प्रांत की शिया मस्जिद में नमाज़ के दौरान हुए आत्मघाती बम विस्फोट की जिम्मेदारी ली है। जुमे (शुक्रवार) की नमाज़ के दौरान बम धमाके में 47 लोगों की मौत हो गयी थी जबकि कई अन्य लोग घायल हो गए थे।

आईएस ने शुक्रवार देर रात सोशल मीडिया पर एक वक्तव्य जारी कर यह जिम्मेदारी ली और कहा कि उसके दो सदस्यों ने कंधार प्रांत में फातिमिया मस्जिद के प्रवेश द्वार पर तैनात सुरक्षाकर्मियों की गोली मारकर हत्या कर दी। इसके बाद आईएस के एक आतंकवादी ने मस्जिद के प्रवेश द्वार पर खुद को बम से उड़ा लिया जबकि दूसरे ने मस्जिद के अंदर भीषण धमाका किया।

आईएसआईएस की समाचार एजेंसी अमाक ने एक बयान में हमलावरों के नाम अनस अल-खुरासानी और अबू अली अल-बलूची बताए हैं। दोनों ही हमलावर अफगानिस्तान के नागरिक थे। गौरतलब है कि इससे एक हफ्ते पहले इस्लामिक स्टेट (आईएस) से संबद्ध स्थानीय संगठन ने उत्तरी प्रांत की एक शिया मस्जिद में बम विस्फोट किया था, जिसमें 46 लोगों की मौत हुई थी।

अफगानिस्तान में दशकों की जंग के बाद फिर से कब्जा जमाने वाले तालिबान ने मुल्क में अमन बहाली का संकल्प व्यक्त किया था। तालिबान और आईएस दोनों सुन्नी मुसलमानों के समूह हैं, लेकिन वे वैचारिक तौर पर काफी अलग हैं। इनमें आईएस काफी कट्टर है। वे कई बार एक दूसरे के खिलाफ लड़ चुके हैं।

बिगड़ते हालात के बीच फीफा ने 100 खिलाड़ियों को परिवार सहित अफगानिस्तान से बाहर निकाला 

अफगानिस्तान में तालिबानी हुकूमत आने के बाद से ही वहां कई तरह के प्रतिबंध लगने शुरू हो गए हैं। अलग अलग खेल खेलने वाले अफगान खिलाड़ियों का भविष्य अंधकारमय हो गया है। इसी बीच फुटबॉल की संस्था फीफा ने करीब 100 खिलाड़ियों को अफगानिस्तान से बाहर निकाला है। निकाले गए अफगान खिलाड़ियों को उनके परिवार सहित काबुल से दोहा लाया गया है। (जनसत्ता ऑनलाइन के साथ)

पढें अंतरराष्ट्रीय समाचार (International News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
विनोद राय ने मनमोहन सिंह पर बोला हमला, कहा- ‘कांग्रेसी नेताओं ने बनाया था दबाव’
अपडेट