ताज़ा खबर
 

पेरिस थिएटर के हमलावरों से मिला था भारतीय आइएस संदिग्ध

आइएस का संदिग्ध सदस्य और भारतीय नागरिक सुबहानी हजा मोइदीन पिछले साल नवंबर में पेरिस के एक थिएटर में हमले को अंजाम देने वाले आतंकवादियों को जानता था
Author नई दिल्ली | October 24, 2016 01:58 am
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

राष्ट्रीय जांच एजंसी (एनआइए) की छानबीन में पता चला है कि आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आइएस) का संदिग्ध सदस्य और भारतीय नागरिक सुबहानी हजा मोइदीन पिछले साल नवंबर में पेरिस के एक थिएटर में हमले को अंजाम देने वाले आतंकवादियों को जानता था, लेकिन उसने ऐसा दिखावा किया कि उसे इस वारदात के बारे में कुछ पता ही नहीं था। इस हमले में 100 से ज्यादा लोग मारे गए थे।

केंद्रीय सुरक्षा एजंसियों और राज्य पुलिस बलों की मदद से एनआइए की ओर से की गई कार्रवाई में मोइदीन को तमिलनाडु से गिरफ्तार किया गया था। मोइदीन को गिरफ्तार कर एनआइए ने केरल के कुछ जजों और इस तटीय राज्य की सैर पर आने वाले विदेशी सैलानियों को निशाना बनाने की आइएस की साजिश नाकाम कर दी थी। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि तमिलनाडु के तिरुनेलवेली से गिरफ्तार किए गए मोइदीन में सोशल मीडिया के जरिए कट्टरपंथी भावनाएं भरी गईं और फिर उसकी भर्ती की गई। ‘उमरा’ करने का बहाना बना कर वह पिछले साल अप्रैल में चेन्नई से तुर्की के इस्तांबुल चला गया था।
इस्तांबुल पहुंचने के बाद वह पाकिस्तान और अफगानिस्तान से आए कुछ लोगों के साथ इराक के उस इलाके में चला गया जहां आइएस का नियंत्रण था। सूत्रों ने बताया कि इसी अवधि में मोइदीन ने पेरिस हमले के हमलावरों से मुलाकात की, जिसमें अब्दुलहमीद अबाऊद और सालह अब्दुस्सलाम शामिल थे। पिछले साल नवंबर में पेरिस के थिएटर में हुए हमले के दौरान जवाबी फायरिंग में अबाऊद मारा गया था जबकि अब्दुस्सलाम फ्रांस पुलिस की गिरफ्त में है।

वीडियो: NIA ने ISIS से प्रेरित मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया, 6 गिरफ्तार

सूत्रों ने बताया कि मोइदीन नवंबर में भारत लौट आया था और उसने कहा कि उसे पेरिस हमले के बारे में मीडिया में आई खबरों से पता चला। उसने इराक और सीरिया में आइएस के कब्जे वाले इलाकों में इन हमलावरों से मुलाकात की बात कबूल की। सूत्रों ने बताया कि एनआइए ने फ्रांस के सुरक्षा अधिकारियों को सूचित किया है और यहां फ्रांसीसी दूतावास से संपर्क किया है। जांच में किसी तरह की मदद मिलने की उम्मीद से उन्हें सूचित किया गया है। उन्होंने कहा कि अदालत का उचित आदेश  मिलने पर फ्रांसीसी अधिकारी मोइदीन से पूछताछ भी कर सकते हैं। फ्रांस में हुए आतंकवादी हमलों की कई देशों की ओर से की जा रही छानबीन के मुताबिक, हमले में शामिल आतंकवादी उस वक्त आइएस के कब्जे वाले इलाकों में ही मौजूद थे जब 31 साल का मोइदीन वहां था। मोइदीन आठ अप्रैल 2015 से इराक में था, जहां उसे मोसुल ले जाया गया। मोसुल में उसे धार्मिक प्रशिक्षण और फिर लड़ाकू प्रशिक्षण दिया गया जिसमें स्वचालित हथियारों को चलाने का प्रशिक्षण भी शामिल था। इसके बाद उसे करीब दो हफ्ते के लिए युद्ध लड़ने के लिए तैनात किया गया।

उसने जांच अधिकारियों को बताया कि युद्ध के दौरान आइएस ने उसे हर महीने भत्ते के तौर पर 100 अमेरिकी डॉलर का भुगतान किया और इसके अलावा रहने व खाने की सुविधा मुहैया कराई। बहरहाल, मोइदीन ने जांच अधिकारियों को बताया कि वह मोसुल में हिंसा और मुश्किल हालात नहीं झेल सका और जब अपने दो दोस्तों को जलकर मरते देखा तो वहां से रवाना होने का फैसला किया। आइएस ने मोइदीन को जेल में बंद कर दिया था। उसे एक इस्लामी जज के सामने पेश किया जिसने उसे सीरिया भेज दिया। मोइदीन ने दावा किया कि उसे तुर्की जाने दिया गया जहां से उसने इस्तांबुल स्थित भारतीय वाणिज्य दूतावास की मदद से अपने परिवार से संपर्क साधा। वह छह महीने बाद एक आपातकालीन प्रमाणपत्र पर पिछले साल सितंबर में मुंबई पहुंचा और अपने पैतृक स्थान चला गया और पत्नी के साथ रहने लगा। बाद में तमिलनाडु के कदयानल्लूर में वह एक आभूषण की दुकान पर नौकरी करने लगा। .

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.