ताज़ा खबर
 

ISIS ने ढाया स्वर्ग के देवता पर जुल्म, विस्फोटों से उड़ाया प्राचीन मंदिर

ISIS आतंकियों द्वारा एक प्राचीन मंदिर को विस्फोटकों से उड़ा दिया। बाल शामिन नाम का ये मंदिर यूनेस्को द्वारा चिन्हित सीरियाई शहर पलमयरा में स्थित था। यह जानकारी मीडिया में जारी रिपोर्टों से मिली।

आतंकी संगठन आईएसआईएस जहां एक ओर महिलाओं और युवकों के साथ जुल्म ढाने और उन्हें मौत के घाट उतारने की खबरें आ रहीं थी लेकिन अब सीरिया की राजधानी दमिश्क में इस्लामी स्टेट के जिहादियों द्वारा प्राचीन मंदिर को विस्फोट से उड़ाने की खबर है।

बीते दिन आतंकियों द्वारा एक प्राचीन मंदिर को विस्फोटकों से उड़ा दिया। बाल शामिन नाम का ये मंदिर यूनेस्को द्वारा चिन्हित सीरियाई शहर पलमयरा में स्थित था। यह जानकारी मीडिया में जारी रिपोर्टों से मिली।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने सोमवार को सीरिया की एक मानवाधिकार पर्यवेक्षक संस्था के हवाले से जानकारी दी कि आईएस आतंकवादियों ने बाल शमीन जिन्हें ‘स्वर्ग का देवता’ भी कहते हैं, इसके वाबजूद भी उस मंदिर को बम से उड़ा दिया।

यह मंदिर पलमयरा में प्रसिद्ध रोमन थियेटर से कुछ ही मीटर की दूरी पर स्थित है। ब्रिटेन के पर्यवेक्षक समूह ने पलमयरा छोड़ कर भागे नागरिकों से एकत्र की गई सूचनाओं और आपबीती के हवाले से बताया कि बताया कि मंदिर में विस्फोट एक महीने पहले किया गया था।

बताया जाता है कि पलमयरा शहर प्राचीन विश्व के सबसे महत्वपूर्ण सांस्कृति केंद्रों में से एक माना जाता है। मामून अब्दुलकरीम नाम के इस अधिकारी ने बताया कि, ‘आईएस के आतंकियों ने बाल शामिन मंदिर में बड़ी मात्रा में विस्फोटक रखने के बाद उसे उड़ा दिया जिससे मंदिर को काफी नुकसान हुआ है।’

आतंकी संगठन आईएस यानि इस्लामिक स्टेट का सीरिया और पड़ोसी देश इराक के एक बड़े इलाके पर कब्ज़ा है। इन लोगों ने 21 मई को पलमयरा पर भी कब्ज़ा कर लिया था। जिसके तुरंत बाद यूनेस्को ने पलमयरा के हेरिटेज इमारतों की सुरक्षा पर चिंता जतायी थी।

यूनेस्को के अनुसार इन इमारतों की सार्वभौमिक उपयोगिता है जिसे किसी भी समय में नकारा नहीं जा सकता है। पलमयरा शहर प्राचीन विश्व के सबसे महत्वपूर्ण सांस्कृति केंद्रों में से एक माना जाता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories