ताज़ा खबर
 

अमेरिकी प्रतिबंधों को ठेंगा दिखाते हुए ईरान ने किया बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण

यह मिसाइल ईरान की अन्य बैलिस्टिक मिसाइलों की तुलना में आकार में छोटी लेकिन अधिक प्रभावशाली है।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है।

ईरान ने शनिवार को कहा कि उसने मध्यम दूरी की एक नई मिसाइल का सफल परीक्षण किया है। ईरान ने यह परीक्षण ऐसे समय में किया है, जब अमेरिका ने चेतावनी दी है कि वह इस मुद्दे को लेकर ऐतिहासिक परमाणु समझौते से अलग हो सकता है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, ईरान के सरकारी चैनल प्रेस टीवी ने नई बैलिस्टिक मिसाइल ‘खुर्रमशहर’ के सफल परीक्षण का एक फूटेज प्रसारित किया है। यह परीक्षण शुक्रवार को मिसाइल के एक सैन्य परेड में पेश किए जाने के कुछ ही घंटों बाद किया गया। इस सैन्य परेड में राष्ट्रपति हसन रूहानी और वरिष्ठ सैन्य अधिकारी शामिल हुए थे। रपट के मुताबिक, इस मिसाइल का परीक्षण शुक्रवार देर शाम किया गया। इस संबंध में अधिक जानकारी नहीं मिल पाई है। इस्लामिक रिवोल्यूशन गार्ड्स कॉर्प्स (आईआरजीसी) के ऐरोस्पेस डिविजन के वरिष्ठ कमांडर ब्रिगेडियर जनरल अमीर अली हाजिजादेह ने शुक्रवार को संवाददाताओं को बताया कि यह बैलिस्टिक मिसाइल एक साथ कई मुखास्त्र ले जाने में सक्षम है।

HOT DEALS
  • Sony Xperia L2 32 GB (Gold)
    ₹ 14845 MRP ₹ 20990 -29%
    ₹1485 Cashback
  • Honor 9 Lite 64GB Glacier Grey
    ₹ 15220 MRP ₹ 17999 -15%
    ₹2000 Cashback

हाजिजादेह ने बताया, “यह मिसाइल ईरान की अन्य बैलिस्टिक मिसाइलों की तुलना में आकार में छोटी लेकिन अधिक प्रभावशाली है। इसे निकट भविष्य में उपयोग में लाया जाएगा।” ईरानी सैन्यबल ने शुक्रवार को इराक के साथ 1980-1988 युद्ध की याद में एक सैन्य परेड का आयोजन किया था, जिसमें देश की उन्नत सैन्य शक्तियों को प्रदर्शित किया गया।

ईरान ने बैलिस्टिक मिसाइलों सहित घरेलू स्तर पर निर्मित अन्य उन्नत मिसाइलों को भी प्रदर्शित किया, जिनकी मारक क्षमता 1,300 किलोमीटर से 2,000 किलोमीटर है। ईरान ने जिस बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया है, वह 2,000 किलोमीटर की दूरी तक मार करने वाली तीसरे प्रकार की मिसाइल है, जो कई मुखास्त्रों को ले जाने में सक्षम है।

ईरान कई बार कह चुका है कि उसकी सैन्य क्षमताएं सिर्फ रक्षा उद्देश्यों के लिए हैं और इनसे अन्य देशों को कोई खतरा नहीं है। अमेरिका, ईरान के परमाणु कार्यक्रमों को लेकर कई बार उस पर प्रतिबंध लगा चुका है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App