ताज़ा खबर
 

गूगल लंदन में बना रहा नया हेडक्वार्टर, यूरोपियन यूनियन की बिल्डिंग से भी होगा बड़ा, होगा मसाज रूम, स्विमिंग पूल और गार्डन

गूगल के नए ऑफिस मे बास्केटबॉल के लिए ग्राउंड के साथ ही फुटबॉल और बैडमिंटन के लिए ग्राउंड बनाने का भी प्रस्ताव रखा गया है।

यूके मे गूगल के 4,000 एंप्‍लाई हैं। (Photo: Faceboo/pradodesign)

गूगल यूके में अपना नया हेडक्वार्टर बनाने की प्लानिंग कर रहा है। लंदन में प्रस्तावित गूगल का यह हेडक्वार्टर यूरोपियन यूनियन की सबसे बड़ी बिल्डिंग से भी बड़ा होगा। इसके लिए गूगल यूके और इसके डिवेलपर्स ने कैमडन काउंसिल को इसका प्रस्ताव भेजा है। इस प्रस्ताव में बिल्डिंग की छत पर 200 मीटर लंबी ट्रिम ट्रेल, एक तीन लेन का स्विमिंग पूल, मसाज रूम, एक्सासाइज स्टूडियो, बास्केटबॉल के लिए ग्राउंड के साथ ही फुटबॉल और बैडमिंटन के लिए ग्राउंड बनाना शामिल है। साथ ही जो लोग खेल नहीं सकते या खेलना नहीं चाहते वह बैठकर खेल देख सकें इसकी व्यवस्था की भी बात है। वहीं इसमें छत पर गार्डन भी बनाने का प्रस्ताव दिया गया है।

यह विशालकाय बिल्डिंग में 10 लाख स्कावायर फीट जगह होगी। यह बिल्डिंग किंग क्रॉस रेलवे स्टेशन के पास बनाई जाएगी। अल्फाबेट इंक गूगल के अभी यूके में 4,000 एंप्‍लाई हैं। इस बिल्डिंग को बनाने का काम अगले साल शुरू किया जाएगा। यह करीब 330 मीटर लंबी होगी। यह लंदन के 310 मीटर उंचे शर्ड टॉवर से थोड़ी बड़ी होगी। इसे बनाने के लिए गूगल ने थॉमस हीदरविक सहित कई आर्किटेक्ट्स और डिजाइनरों को शामिल किया। यह लोग गूगल के नए कैलिफोर्निया के मुख्यालय को भी बनाने में शामिल थे। यह लंदन की नई डबल डेकर बस को नया रूप देने के लिए भी जाने जाते हैं।

गूगल के नए हेडक्वार्टर की छत पर 300 मीटर लंबा गार्डन बनाया जाएगा। इसमें रनिंग ट्रेक भी होगा। साथ ही इसमें आराम करने के लिए भी उचित व्यवस्था की जाएगी। वहीं रिलेक्शेसन एरिया में फूलों वाले पेड़ पौधे लगाए जाएंगे। गूगल स्नैप इंक और एप्पल इंक जैसी कंपनियों में से एक है, जोकि यूके के यूरोपियन यूनियन से बाहर निकलने के बावजूद अपने ऑफिसों को दोबारा बना रही हैं। गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने नवंबर में कहा था कि यूके में मुझे यह साफ दिखाई दे रहा है कि यहां कंप्यूटर साइंस का फ्यूचर अच्छा है। यहां टेलेंट की कमी नहीं है। यहां चारो तरफ लोगों में कुछ नया करने जुनून है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App