ताज़ा खबर
 

सामने आए ब्राजील की जेल के 7 खौफनाक सच, पुरुष कैदियों से गैंगरेप, कोकीन खिला घरवालों से वसूलते हैं पैसे

ह्यूमन राइट्स वॉच की ताजा रिपोर्ट में पेरनामब्‍यूको जेल के बारे में हैरान करने वाले खुलासे किए गए हैं।

ब्राजील को दुनिया की तेजी से उभरती अर्थव्‍यवस्‍थाओं में एक माना जाता है। इस लैटिन अमेरिकी देश में वर्षों से डिल्‍मा रूसेफ का शासन हैं, जिन्‍होंने देश की तरक्‍की में अप्रत्‍याशित योगदान दिया। रूसेफ की छवि एक सख्‍त प्रशासक की है और वह भ्रष्‍टाचार के खिलाफ सख्‍त कदम उठाने वाली महिला के तौर पर जानी जाती हैं, लेकिन इतने वर्षों के शासन के बाद भी वह ब्राजील की जेलों का हाल नहीं सुधार सकीं। ह्यूमन राइट्स वॉच की ताजा रिपोर्ट इसी संबंध में हैरान करने वाले खुलासा करती है। वैसे तो ब्राजील की सभी जेलों की हालत खराब है, लेकिन आज हम बात करेंगे सिर्फ पेरनामब्‍यूको जेल की। इसे अगर दुनिया की सबसे खतरनाक जेल कहा जाए तो गलत नहीं होगा। आइये 7 पॉइंट्स के जरिये जानते हैं इस जेल के बारे में हैरान करने वाले खुलासे, जिन्‍हें पढ़कर कोई भी सहम जाएगा।

ब्राजील जेल, खतरनाक जेल, पेरनामब्‍यूको जेल, डिल्‍मा रूसेफ, ह्यूमन राइट्स वॉच, Brazil, Pernambuco Prisons, investigation, chaveiros, keyholders, murderers, rapists, drug dealers, Human Rights Watch, HRW

1-पेरनामब्‍यूको जेल की पूरा एडमिनिस्‍ट्रेशन अपराधियों के हाथ में है। इस जेल में कुछ विशेषाधिकार प्राप्‍त अपराधी हैं, जिन्‍हें की-होल्‍डर्स कहा जाता है। ये की-होल्‍डर्स ही जेल में चल रहे पूरे कारोबार को चलाते हैं। ये लोग जेल में कोकीन का कारोबार करते हैं। कैदियों को तरह-तरह के हथकंडे अपनाकर कोकीन की लत लगाई जाती है और उसकी कीमत कैदियों के परिवार वालों से वसूली जाती है। सेंड्रा नाम की महिला ने ह्यूमन राइट्स वॉच को बताया कि जेल से उसके पास फोन आया कि या तो वह ड्रग्‍स का पैसा दे, नहीं तो उसके बेटे का शव ताबूत में रखकर भेज दिया जाएगा। सेंड्रा ने बताया कि बेटे की जान बचाने के लिए उसे अपने घर का सारा सामान बेचना पड़ा।

2-की-होल्‍डर्स जेल के हर कैदी से हफ्ते के तौर पर करीब 8 यूरो (करीब 572 रुपये) वसूल करते हैं। अगर कोई कैदी हफ्ता नहीं दे पाता है तो उसके परिजनों को फिरौती के लिए फोन किया जाता है। अपने परिजनों की जान बचाने के लिए लोग कुछ भी करके की-होल्‍डर्स को पैसा मुहैया कराते हैं।

3-पेरनामब्‍यूको जेल में की-होल्‍डर्स की हैसियस का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जेल में उन्‍हें अलग से कमरे मिले हुए हैं, जिनमें वे टीवी, फ्रिज, पंखे समेत सहूलियत का हर सामान रखते हैं। इतना ही नहीं, वे कैदियों को नौकर के तौर पर भी रखते हैं।

ब्राजील जेल, खतरनाक जेल, पेरनामब्‍यूको जेल, डिल्‍मा रूसेफ, ह्यूमन राइट्स वॉच, Brazil, Pernambuco Prisons, investigation, chaveiros, keyholders, murderers, rapists, drug dealers, Human Rights Watch, HRW

4-जेल के अंदर अंधा कानून चलाने वाले की-होल्‍डर्स कई गैंग भी रखते हैं, जो किसी भी वक्‍त किसी को भी मार सकते हैं। हैरत की यह है कि इस गैंग के लोग कैदी नहीं होते, लेकिन जेल में बाकायदा इनकी भर्ती की जाती है। मारिया नाम की महिला ने बताया कि उसके भतीजे को जेल में बुरी तरह पीटा गया था, लेकिन उसने शिकायत नहीं की, क्‍योंकि इससे उसकी जान को खतरा हो सकता था।

JAIL 5

5- दो कैदियों ने बताया कि जेल में उनके साथ गैंगरेप तक किया गया। की-होल्‍डर्स ने एक खास जगह पर दोनों पुरुष कैदियों को छोड़ दिया, जहां 10 अन्‍य पुरुष कैदियों ने उनके साथ बलात्‍कार किया। 28 वर्षीय जॉर्ज (बदला हुआ नाम) ने बताया कि 10 लोगों ने उसके हाथ बांधे, सिर को प्‍लास्टिक बैग से ढक दिया और फिर उसके साथ रेप किया। एक समलैंगिक कैदी पाउलो ने बताया कि वह जिस सेल में रहता है, उसमें कुल 67 लोग रहते हैं। सेल के इंचार्ज ने उसे तीन लोगों के साथ सेक्‍स करने को मजबूर किया। उसने यह भी बताया कि जेल में रेप करने वाले कंडोम भी यूज नहीं करते हैं, जिसकी वजह से पेरनामब्‍यूको जेल में एचआईवी के मामले लगातार बढ़ रहे हैं।

JAIL 3

6- ब्राजीलियन प्रॉसीक्‍यूटर मार्सेलस ने बताया कि ब्राजील की जेलों में अपराध इस हद इसलिए बढ़ गया है, क्‍योंकि सरकारों ने ऐसा होने दिया। उन्‍होंने बताया कि ब्राजील की करीब 607,000 लोग कैद हैं, जबकि इस देश में जेलों में जगह सिर्फ 377,000 लोगों को ही रखने की है। 32000 कैदी तो सिर्फ पेरनामब्‍यूको जेल में है, जबकि यहां सिर्फ 10,500 कैदी ही रखने की जगह है।

7- पेरनामब्‍यूको जेल में करीब 59 प्रतिशत कैदी अभी विचाराधीन हैं, लेकिन उन्‍हें रखा जा रहा है सजायाफ्ता कैदियों के साथ। नेशनल प्रिजन डिपार्टमेंट के आंकड़ों की मानें तो पेरनामब्‍यूको जेल में 31 कैदियों की सुरक्षा के लिए एक गार्ड है, लेकिन हैरानी की बात यह है कि जेल में बने ‘सेमी ओपन’ सेल में करीब 2300 कैदी रखे गए हैं और वहां एक समय पर सिर्फ चार गार्ड ही तैनात रहते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App