ताज़ा खबर
 

‘भारत-अमेरिका नौसेना संबंध फल-फूल रहे है, लेकिन नौकरशाही बाधाएं बनी रहेंगी’

पचास पन्नों की यह रिपोर्ट कहती है कि मोदी के प्रशासन में दोनों नौसेनाओं के बीच के रिश्ते के फायदे स्पष्ट हैं।

Author वॉशिंगटन | March 1, 2017 9:44 PM
अरब सागर में गश्त करती भारतीय तटरक्षक दल की नौका। (पीटीआई फाइल फोटो)

एक शीर्ष अमेरिकी थिंक टैंक ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शासन में भारत-अमेरिका नौसेना संबंध फूल-फल रहे हैं, लेकिन वह गहरी जड़ें जमा चुकी नौकरशाही बाधाओं को उतना नहीं तोड़ पाए जितना उन्होंने ठाना था। सेंटर फोर नेवल अनालिसिस (सीएनए) ने अपनी ताजा रिपोर्ट में चेतावनी दी है कि अगर भाजपा 2019 का आम चुनाव नहीं जीत पाई तो फूल-फल रहे इस संबंध में बाधा आ सकती है। ‘द फ्यूचर ऑफ यूएस-इंडिया नेवल रिलेशंस’ शीर्षक की इस रिपोर्ट में कहा गया है, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन संबंधों के प्रभावी पैरोकार रहे हैं। हालांकि वाशिंगटन को गुजरात में 2002 के दंगे में उनकी भूमिका की वजह से उन्हें गले लगाने में शुरू में हिचकिचाहट थी।’

निलांथी समरनायक, माइकल कोनेल और सतू लिमये ने यह रिपोर्ट तैयार की है। पचास पन्नों की यह रिपोर्ट कहती है कि मोदी के प्रशासन में दोनों नौसेनाओं के बीच के रिश्ते के फायदे स्पष्ट हैं। इसमें कहा गया है, ‘विमान वाहक प्रौद्योगिकी कार्यबल की स्थापना एक उपलब्धि है जो एक दशक पहले साकार नहीं हो पाया था।’ रिश्ते में प्रगति का एक अन्य उदाहरण देते हुए रिपोर्ट कहती है कि वर्ष 2007 के मालाबार विवाद के चलते बंगाल की खाड़ी में जापान के साथ त्रिपक्षीय मालाबार अभ्यास मोदी प्रशासन में इतनी जल्दी संभव नहीं लगता था। ‘फिर भी, यह मोदी के सत्ता संभालने के सालभर बाद ही 2015 में हुआ।’

इसमें कहा गया है, ‘दरअसल मोदी ने नौकरशाही की अड़चनें दूर करने में अपने अधिकार का इस्तेमाल किया, हालांकि वह संबंधों को पटरी से तो उतार नहीं पाता लेकिन उसकी तरक्की को रोक सकता था।’ रिपोर्ट में कहा गया है, ‘गहरी जड़ें जमा चुकीं नौकरशाही अड़चन को मोदी उतना दूर नहीं कर पाए जितना उन्होंने ठाना था।’ थिंक टैंक कहता है, ‘उदाहरण के लिए, यदि भाजपा अगला चुनाव हारती है या उसका प्रशासन अपना ध्यान घरेलू राजनीतिक मुद्दों से निबटने पर ज्यादा लगाती है तो सैन्य संबंधों में प्रगति रूक सकती है और उसका अमेरिका-भारत नौसेना संबंधों पर असर पड़ सकता है।’

H-1B वीजा पर पाबंदी को लेकर पीएम मोदी चिंतित; कहा- “भारतीय पेशेवरों पर पाबंदी सही कदम नहीं होगा”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App