ताज़ा खबर
 

कूटनीतिक तरीके से सुलझ सकता है भारत-नेपाल सीमा विवाद, नेपाली उप प्रधानमंत्री बिमलेंद्र निधि बोले- आतंक से निपटने में हम साथ

कुछ दिनों पहले नेपाली अधिकारियों द्वारा विवादित क्षेत्र में पुलिया निर्माण पर विवाद के बाद दक्षिण-पश्चिम नेपाल के कंचनपुर के निवासी 20 वर्षिय गोविंद गौतम की कथित तौर पर सशस्त्र सीमा बल की गोली लगने से मृत्यु हो गई थी।

Author नई दिल्ली | March 15, 2017 3:37 AM
दिल्ली में मंगलवार को नेपाल के उपप्रधानमंत्री बिमलेंद्र निधि का स्वागत करते देवी प्रसाद त्रिपाठी।

नेपाल के उपप्रधानमंत्री और गृह मंत्री बिमलेंद्र निधि ने मंगलवार को कहा कि दोनों देशों के बीच सीमा से जुड़े विवादों को कूटनीतिक और राजनीतिक तरीके से सुलझाने की जरूरत है। आतंक-रोधी सम्मेलन में हिस्सा लेने दिल्ली आए निधि ने कहा कि नेपाल आतंक के खिलाफ अपनी लड़ाई में प्रतिबद्ध है। उन्होंने नेपाल लोकतंत्र एकजुटता समिति भारत के अध्यक्ष और सांसद डीपी त्रिपाठी से भी मुलाकात की और भारत-नेपाल संबंधों पर चर्चा की। हाल में भारत-नेपाल सीमा पर एक नेपाली नागरिक की कथित रूप से भारतीय सशस्त्र सीमा बल की गोली से मृत्यु के बाद उत्पन्न हुए तनाव पर बोलते हुए नेपाल के उपप्रधानमंत्री बिमलेंद्र निधि ने कहा, ‘सीमा पर जो कुछ भी होता है उसे कूटनीतिक और राजनीतिक रूप से सुलझाने की जरूरत है। इसके लिए दोनों देशों के बीच एक संयुक्त तकनीकी दल भी बना हुआ है।’ उन्होंने कहा, ‘सीमा पर इस तरह की दुर्घटना दुर्भाग्यपूर्ण है, भारतीय सुरक्षाकर्मी की गोली से नेपाली नागरिक मारा गया, भारतीय अधिकारियों को हमने कहा है इस मामले में जांच हो। दोनों देश मिलकर समाधान निकालें।’ निधि ने कहा कि वे अपनी दिल्ली यात्रा के दौरान नेताओं और अधिकारियों से मुलाकात के दौरान इस मुद्दे पर चर्चा करेंगे।

आतंकवाद के खिलाफ नेपाल की प्रतिबद्धता जताते हुए उन्होंने कहा, ‘नेपाल किसी भी तरह के आतंकवाद का विरोध करता है, नेपाल की जमीन और सीमाओं का इस्तेमाल करने वाले आतंकियों को हमने गिरफ्तार किया है और इस संबंध में सूचनाओं का आदान-प्रदान किया जाता रहा है। दिल्ली के आतंक-रोधी सम्मेलन में हम इसी प्रतिबद्धता को जताने आए हैं।’
निधि की राज्यसभा सांसद डीपी त्रिपाठी से मुलाकात के बाद त्रिपाठी ने कहा,‘भारत-नेपाल संबंधों पर चर्चा हुई, वर्तमान नेपाल सरकार के दौरान स्थायित्व और शांति पर चर्चा हुई। हाल ही में वहां की सरकार ने स्थानीय निकाय के चुनाव घोषित किए गए हैं, उस पर भी चर्चा हुई।’ भारत-नेपाल सीमा पर हाल में हुए तनाव पर त्रिपाठी ने कहा, ‘फिलहाल को हालात काबू में हैं, लेकिन हमें इसको बढ़ने नहीं देना चाहिए।’ नेपाल में उभर रहे भारत विरोधी भावनाओं पर त्रिपाठी ने कहा कि इस समय यह भावनाएं उतनी नहीं हैं, जितनी पहले थीं। भारत सरकार की पहल के नतीजे निकले हैं, लेकिन इसके लिए जरूरी है कि मधेसी और अन्य समुदायों के बीच संघर्ष को रोका जाए। उन्होंने मधेशियों के लिए नेपाल में आनुपातिक प्रतिनिधित्व की वकालत की।

इस चर्चा के दौरान भारत में नेपाल के राजदूत दीप कुमार उपाध्याय, भाजपा नेता सीपी जोशी, कांग्रेस नेता आॅस्कर फर्नांडीज, जदयू नेता केसी त्यागी, नेपाल में भारत के पूर्व राजदूत जैन प्रसाद, प्रसार भारती के अध्यक्ष ए सूर्यकुमार, युवा फिल्मकार यशवंत गिरि, सामाजिक कार्यकर्ता अनिल चौधरी और प्रसिद्ध पत्रकार पुष्प सराफ भी मौजूद रहे।  मीडिया की खबरों के मुताबिक कुछ दिनों पहले नेपाली अधिकारियों द्वारा विवादित क्षेत्र में पुलिया निर्माण पर विवाद के बाद दक्षिण-पश्चिम नेपाल के कंचनपुर के निवासी 20 वर्षिय गोविंद गौतम की कथित तौर पर सशस्त्र सीमा बल की गोली लगने से मृत्यु हो गई थी। इसके बाद सीमा का माहौल तनावपूर्ण हो गया। सीमा पर हजारों लोगों ने इकट्ठा होकर भारत-विरोधी नारेबाजी की और दोनों तरफ के लोगों के बीच टकराव और पत्थरबाजी की घटनाएं भी सामने आईं। भारत की तरफ से इस मामले में जांच के आदेश दे दिए जा चुके हैं। घटना के बाद भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल ने नेपाल के प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल प्रचंडा से इस पर बातचीत भी की थी।

 

दिल्ली: अरविंद केजरीवाल की चुनाव आयोग से मांग- "ईवीएम की जगह बैलेट पेपर से करवाए जाएं MCD चुनाव"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App