ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान में फंसी गीता को जल्द लाया जाएगा भारत, परिवार की खोज जारी

भारतीय उच्चायुक्त टीसीए राघवन और उनकी पत्नी ने आज पाकिस्तान में एक दशक से अधिक समय से रह रही मूक बधिर भारतीय लड़की से मुलाकात की और जल्दी से जल्दी उसके परिवार को खोजने के प्रयास करने का आश्वासन दिया।

Author August 5, 2015 8:38 AM
भारतीय उच्चायुक्त ने कराची में गीता से मुलाकात की

भारतीय उच्चायुक्त टीसीए राघवन और उनकी पत्नी ने आज पाकिस्तान में एक दशक से अधिक समय से रह रही मूक बधिर भारतीय लड़की से मुलाकात की और जल्दी से जल्दी उसके परिवार को खोजने के प्रयास करने का आश्वासन दिया।

राघवन ने कहा कि इस केंद्र में मेरी यात्रा का उद्देश्य गीता के मामले के बारे में समस्त ब्यौरा तथा पृष्ठभूमि पता लगाना है और यथासंभव जल्दी उसके परिवार और रिश्तेदारों का पता लगाने की कोशिश करना है।

उन्होंने कहा कि मैं यहा आया हूं, यही हमारी सरकार की ओर से शांति का संदेश है। राघवन की कराची यात्रा से एक दिन पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट किया था कि उन्होंने इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायोग को लड़की से मिलने और उसकी समस्या का समाधान करने का निर्देश दिया है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने ट्वीट किया, मदद करने के लिए राघवन और उनकी पत्नी रंजना ने कराची में गीता से मुलाकात की जो 15 साल से अपने घर से दूर है। माना जाता है कि 23 वर्षीय गीता बचपन में गलती से सरहद पारकर पाकिस्तान की सरजमीं में आ गई थी। पाकिस्तान से मिली खबरों के अनुसार वह 15 साल पहले जब लाहौर रेलवे स्टेशन पर पाकिस्तानी रेंजरों को मिली थी तब 7-8 साल की थी।

HOT DEALS
  • Sony Xperia XZs G8232 64 GB (Warm Silver)
    ₹ 34999 MRP ₹ 51990 -33%
    ₹3500 Cashback
  • Sony Xperia XA Dual 16 GB (White)
    ₹ 15940 MRP ₹ 18990 -16%
    ₹1594 Cashback

मौलाना अब्दुल सत्तार एदी की पत्नी बिलकिस एदी और हल्के हरे रंग की सल्वार कमीज पहने गीता के साथ राघवन ने कहा कि सभी मतभेदों और विवादों के बावजूद पाकिस्तान और भारत के बीच मानवता का रिश्ता है।

राघवन ने कहा कि भारतीय सरकार नीति के तौर पर गलती से भारतीय क्षेत्र में घुस आये लोगों की घर लौटने में सर्वश्रेष्ठ तरीके से मदद करती है। उन्होंने इस बात पर सहमति जताई कि पाकिस्तान सरकार द्वारा भारतीय मछुआरों की रिहाई एक सकारात्मक कदम है और इससे दोनों पड़ोसी देशों के बीच रिश्तों में मदद मिलेगी।

मानवाधिकार कार्यकर्ता अंसार बर्नी ने कहा कि भारतीय उच्चायुक्त का दौरा सही दिशा में उठाया गया कदम है। बर्नी ने तीन साल पहले भारत की यात्रा के दौरान इस विषय को उठाया था। बर्नी ने कहा कि वह अब अपनी सरकार को रिपोर्ट देंगे और मुझे विश्वास है कि अंतत: यह गरीब और बेगुनाह लड़की अपने देश लौट सकेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App