ताज़ा खबर
 

भारतीय हैकर्स का दावा- 17 लाख स्‍नैपचैट यूजर्स की जानकारी की हैक, भारत को गरीब बताने के बयान का जवाब

बताया जाता है कि स्‍नैपचैट के सीईओ इवान स्‍पीगल के कथित तौर पर भारत को गरीब देश बताने के जवाब में यह कार्रवाई हुई है।

snapchat, indian hackers, snapchat account hack, india, snachat india, snapchat ceo, snapchat news, snapchat usersअज्ञात भारतीय हैकर्स ने दावा किया है कि उन्‍होंने 17 लाख स्‍नैपचैट यूजर्स की निजी जानकारी डीप वेब पर डाल दी है। (Express Photo)

अज्ञात भारतीय हैकर्स द्वारा 17 लाख स्‍नैपचैट यूजर्स की निजी जानकारी सार्वजनिक करने का मामला सामने आया है। ब्रिटिश अखबार इंडिपेंडेंट ने यह खबर दी है। बताया जाता है कि स्‍नैपचैट के सीईओ इवान स्‍पीगल के कथित तौर पर भारत को गरीब देश बताने के जवाब में यह कार्रवाई हुई है। हालांकि स्‍नैपचैट ने हैकिंग और गरीब देश वाले बयान दोनों को नकारा है। उसकी ओर से कहा गया कि स्‍पीगल ने ऐसा कभी नहीं कहा कि उनकी ऐप केवल अमीरों के लिए है और भारत जैसे गरीब देशों के लिए नहीं हैं।

अमेरिका में स्‍नैपचैट के खिलाफ उसके एक पूर्व कर्मचारी द्वारा दायर कानूनी मामले को लेकर छपी एक रिपोर्ट में स्‍पीगल का यह अपुष्‍ट बयान आया है। पूर्व स्‍नैपचैट कर्मचारी एंथनी पोम्पिलानो ने अपने केस में दावा किया कि स्‍पीगल ने एक बार कहा था, ”यह एप केवल अमीरों के लिए है… मैं इसे भारत और स्‍पेन जैसे गरीब देशों तक नहीं फैलाना चाहता।” यह रिपोर्ट सामने आते ही सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म्‍स पर भारतीयों ने लगातार स्‍नैपचैट और स्‍पीगल को निशाना बनाया।  बता दें कि इस तरह का बयान देने की खबर सामने आने के बाद भारतीय यूजर्स ने स्‍नैपचैट ऐप को विरोधस्‍वरूप अनइंस्‍टॉल करना शुरू कर दिया। साथ ही इसकी रेटिंग भी नीचे कर दी। एपल स्‍टोर में स्‍नैपचैट की रेटिंग फाइव स्‍टार से वन स्‍टार रह गई।

सोशल मीडिया पर #UninstallSnapchat और #BoycottSnapchat जैसे कैंपेन शुरू हुए। मामला सामने आने के बाद स्‍नैपचैट के प्रवक्‍ता ने बताया, ”यह बकवास है। यह तय है कि स्‍नैपचैट सभी के लिए हैं। यह पूरी दुनिया में फ्री डाउनलोड के लिए उपलब्‍ध है। इस तरह के शब्‍द एक नाराज पूर्व कर्मचारी ने कहे थे। हम भारत और दुनियाभर के हमारे स्‍नैपचैट के यूजर्स के आभारी हैं।” एक अनुमान के अनुसार, लगभग 30 करोड़ लोग महीने में एक बार इस ऐप का उपयोग जरूर करते हैं। इसके जरिए हर रोज 2.5 बिलियन स्‍नैप्‍स भेजे जाते हैं। साल 2013 में स्‍नैपचैट ऐप के 46 लाख अकाउंट्स हैक कर लिए गए थे। इसके बाद कंपनी की ओर से माफी मांगी गई थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 म्यांमार में जल महोत्सव के दौरान 285 की मौत और 1,073 व्यक्ति घायल
2 चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक्स कॉरिडोर का कश्मीर मामले से नहीं है कोई सीधा संबंधः चीन
3 बेरोजगारी से निपटने के लिए बड़ी संख्या में प्रयोग हो रहे भारतीय वीजा कार्यक्रम को ऑस्ट्रेलिया ने किया समाप्त
यह पढ़ा क्या?
X