ताज़ा खबर
 

भारत-अमेरिका के संबंध को हल्के में नहीं ले सकते : शीर्ष अमेरिकी सांसद बेरा

भारतीय मूल के एक शीर्ष अमेरिकी सांसद ने भारत और अमेरिका के संबंध के भविष्य के प्रति उम्मीद जताई है लेकिन साथ ही यह चेतावनी भी दी है कि इस संबंध को हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए क्योंकि इस रास्ते में घृणा अपराध की घटनाओं जैसे कई गड्ढे आएंगे।

Author March 16, 2017 4:07 PM
अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप (बाएं) और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।

भारतीय मूल के एक शीर्ष अमेरिकी सांसद ने भारत और अमेरिका के संबंध के भविष्य के प्रति उम्मीद जताई है लेकिन साथ ही यह चेतावनी भी दी है कि इस संबंध को हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए क्योंकि इस रास्ते में घृणा अपराध की घटनाओं जैसे कई गड्ढे आएंगे। तीन बार सांसद रह चुके डेमोके्रटिक सांसद एमी बेरा ने कहा, ‘‘मैं भारत और अमेरिका के संबंध को लेकर बहुत आशावादी हूं लेकिन हमें बहुत विचार करना होगा। हम इस संबंध को हल्के में नहीं ले सकते।’’

घृणा अपराधों और आव्रजन को बाधाओं की संज्ञा देते हुए उन्होंने कहा, ‘‘इस मार्ग में कई गड्ढे आएंगे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमें बड़ी तस्वीर देखनी चाहिए। इसपर से नजर मत हटाईए।’ बेरा ने कहा कि भारतीय-अमेरिकी इसमें अहम भूमिका निभाएंगे। बेरा यूएस इंडिया फे्रंडशिप काउंसिल और यूएस इंडिया बिजनेस काउंसिल द्वारा केपिटोल विजिटर सेंटर में आयोजित गोलमेज वार्ता में अपनी बात रख रहे थे। उन्होंने कहा, ‘‘हमारे नजरिए से, संबंध किसी एक या दूसरे प्रशासन पर आधारित नहीं हो सकता। यह 21वीं सदी के लिए एक अहम संबंध हो सकता है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘हम कांग्रेस के सदस्यों और भारतीय सांसदों के बीच संबंध बनाना जारी रखेंगे क्योंकि ये दीर्घकालिक संबंध हैं।’’उन्होंने कहा कि भारतीय-अमेरिकी संबंध का सफर शानदार रहा है।

बता दें इससे पहले एक रिपब्लिकन सीनेटर ने कहा है कि भारत और अमेरिका के संबंध दुनिया के सबसे अहम संबंधों में से एक हैं और दक्षिण एशिया में स्थिरता कायम रखने के लिए जरूरी हैं। इसके साथ ही सीनेटर ने कहा कि भारत का पड़ोसी चीजों को चुनौतीपूर्ण बनाता है।क्षेत्र में आतंकवाद से जुड़ी जानकारी और ऐसे समूहों को पाकिस्तान के मौन समर्थन की जानकारी तक सीधी पहुंच रखने वाले सीनेटर रिचर्ड बर ने ये टिप्पणियां केपिटोल विजिटर सेंटर में यूएस इंडिया फ्रेंडशिप काउंसिल और यूएस इंडिया बिजनेस काउंसिल द्वारा आयोजित गोलमेज वार्ता में कीं।

खुफिया जानकारी से जुड़ी सीनेट की चयन समिति के अध्यक्ष रिचर्ड ने कल कहा, ‘‘भारत और अमेरिका का संबंध दुनिया के सबसे अहम संबंधों में से एक है। क्षेत्र की स्थिरता के लिए यह बेहद जरूरी है। और मैं इसे कूटनीतिक अंदाज में कैसे कहूं।

अमेरिका: कानसस के बार में भारतीय की गोली मारकर हत्या, 2 जख्मी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App